जले पर नमक छिड़कना किसे कहते हैं यह आप को राजकोट में खेला जा रहा पहला टेस्ट मैच बता देगा. वेस्टइंडीज ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि पहले उस के गेंदबाजों की धुलाई होगी और बाद में बल्लेबाज निराश करेंगे.

भारतीय खिलाड़ियों ने राजकोट में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच में वेस्टइंडीज के गेंदबाजों की बखिया उधेड़ते हुए मैच के दूसरे दिन पहली पारी में 9 विकेट खो कर 649 रन बनाए और चायकाल पर पारी की  घोषणा कर दी. इस पारी में पृथ्वी शौ, विराट कोहली और रविंद्र जडेजा ने शानदार शतक लगाए.

इस के जवाब में दूसरे दिन चायकाल के बाद वेस्टइंडीज की टीम अच्छी शुरुआत नहीं कर सकी और उस के विकेट फटाफट गिरते रहे. तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी और फिर स्पिनरों ने कैरेबियाई बल्लेबाजों पर लगभग न उबरने वाला दबाव बनाया. लिहाजा अब भी मेहमान टीम भारत से 555 रन पीछे है और भारत की नजरें उसे पारी के अंतर से हराने पर लगी हुई हैं.

मोहम्मद शमी ने पहले 4 ओवरों में सिर्फ 5 रन दे कर वेस्टइंडीज के कार्यवाहक कप्तान क्रेग ब्रैथवेट और पौवेल को आउट किया. शमी की सीधी गेंद को ब्रैथवेट पढ़ नहीं पाए और गेंद औफ स्टंप पर जा लगी. तब तक उन्होंने महज 2 रन बनाए थे. इस के बाद दूसरे ओपनर कायरन पौवेल भी ज्यादा देर संघर्ष नहीं कर सके और शमी की ही गेंद पर पगबाधा आउट हो गए. उन्होंने सिर्फ 1 रन ही बनाया था.

वेस्टइंडीज की टीम संभल पाती, इस से पहले ही स्पिनर आर. अश्विन ने शाई होप को बोल्ड करते हुए भारत को तीसरी सफलता दिला दी. उन्होंने 10 रन बनाए थे. कुछ ही देर बाद शिमरन हेटमायर भी 10 के निजी स्कोर पर रन आउट हो गए.

इस के बाद सुनील एम्ब्रिस को रविंद्र जडेजा ने अपना शिकार बनाया. उन्होंने भी 12 रन ही अपने खाते में जोड़े थे. उन्हें रहाणे ने लपका था जिस के साथ ही वेस्टइंडीज की आधी टीम पैवेलियन लौट गई. फिर शेन डौरिच को 10 के निजी स्कोर पर कुलदीप यादव ने बोल्ड कर दिया.

अभी मैच में 3 दिन बाकी हैं और वेस्टइंडीज के 100 रन भी नहीं बन पाए हैं. पहली नजर में यह मैच उस के हाथ से फिसलता दिख रहा है. पर क्रिकेट को अनिश्चितताओं का खेल कहा जाता है और वेस्टइंडीज को हार से पहले हार नहीं माननी चाहिए.

Tags:
COMMENT