ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध टी-20 और एकदिवसीय सीरीज के लिए टीम इंडिया का ऐलान किया गया है. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने टी-20 में एक नए चेहरे मयंक मार्कंडेय को जगह दी गई है. 21 वर्षीय मयंक को भारत-ए की तरफ से खेलते हुए इंग्लैंड लॉयंस के खिलाफ 5 विकेट लेने के तुरंत बाद ही अपने प्रदर्शन का ईनाम मिल गया. वे आईपीएल फ्रैंचाइजी मुंबई इंडियंस से भी खेल चुके हैं.

कम लोगों को ही इस बात का पता होगा कि अपनी लेग स्पिन में बड़े-बड़े बल्लेबाजों को उलझाने वाला यह फिरकी गेंदबाज पंजाब अंडर-14 में खेलने के दौरान तेज गेंदबाजी किया करता था. अगर उनके कोच ने उन्हें सही सलाह न दी होती तो, वो आज भी तेज गेंदबाजी ही कर रहे होते. हो सकता है कि तब वे इतना कामयाब नहीं होते. यह कहना खुद मयंक मार्कंडेय का है. उन्होंने मीडिया को बताया है कि ‘बाली सर (मुनीष बाली) ने मुझसे कहा कि तेज गेंदबाज बनने का सपना छोड़ दे. मेरी फिजिक भी बहुत अच्छी नहीं थी. उनकी यही सलाह मेरे लिए वरदान साबित हुई.’

मयंक ने बताया है कि शुक्रवार को आए एक कॉल ने उनकी जिंदगी बदल दी. कुछ ही पलों में उनके मोबाइल पर 300 मेसेज आ गए और 42 मिस्डकॉल भी. इस बारे में उन्होंने कहा कि- मत पूछो. मैं उस समय होटल में था और मेरा फोन बजने लगा. मुझे ऐसी कॉल की आशा नहीं थी. मैं अब भी चकित हूं. कुछ समय लगेगा सबकुछ ठीक होने में, किन्तु मैं इस पल को जिंदगीभर नहीं भूलूंगा.

Tags:
COMMENT