दक्षिण अफ्रीका के स्टार तेज गेंदबाज डेल स्टेन क्रिकेट इतिहास के सबसे खतरनाक गेंदबाजों में से एक रहे हैं. 35 वर्षीय स्टेन ने गुरुवार को श्रीलंका के खिलाफ डरबन टेस्ट में चार विकेट झटकते हुए भारत के महान तेज गेंदबाज कपिल देव का रिकॉर्ड तोड़ दिया है.

स्टेन के इस प्रदर्शन की मदद से पहले टेस्ट के दूसरे दिन श्रीलंकाई टीम दक्षिण अफ्रीका के 235 रन के जवाब में 191 रन पर सिमट गई. इसके बाद दक्षिण अफ्रीका ने दूसरी पारी में 126/4 के साथ दूसरे दिन तक 170 रन की बढ़त ले ली थी.

डरबन टेस्ट शुरू होने से पहले स्टेन के नाम 433 विकेट दर्ज थे और वह कपिल देव (434 विकेट) का रिकॉर्ड तोड़ने से सिर्फ दो विकेट दूर थे. स्टेन ने पहली पारी में शानदार प्रदर्शन करते हुए 20 ओवर में 48 रन देकर 4 विकेट लिए और 437 विकेट के साथ कपिल देव को पीछे छोड़ते हुए स्टुअर्ट ब्रॉड की बराबरी कर ली और दुनिया में सर्वाधिक विकेट लेने वाले सातवें गेंदबाज बन गए. कपिल देव ने जहां 434 विकेट के लिए 131 टेस्ट खेले थे तो वहीं स्टेन ने 92 मैचों में ही 437 विकेट ले लिए हैं.

टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन के नाम है, जिन्होंने 800 विकेट लिए हैं. इसके बाद 708 विकेट के साथ शेन वॉर्न, 619 विकेट के साथ अनिल कुंबले, 575 विकेट के साथ जेम्स एंडरसन, 563 विकेट के साथ ग्लैन मैक्ग्रा और 519 विकेट के साथ कोर्टनी वॉल्श का नंबर है, जिन्होंने डेल स्टेन से ज्यादा टेस्ट विकेट लिए हैं.

टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले टॉप-10 गेंदबाज

मुथैया मुरलीधरन-800 विकेट

शेन वॉर्न-708 विकेट

अनिल कुंबले-619 विकेट

जेम्स एंडरसन-575 विकेट

ग्लैन मैक्ग्रा-563 विकेट

कोर्टनी वॉल्श-519 विकेट

डेल स्टेन-437 विकेट

स्टुअर्ट ब्रॉड-437 विकेट

कपिल देव-434 विकेट

रंगना हेराथ-433 विकेट

सर रिचर्ड हैडली-431 विकेट

डेल स्टेन ने इस उपलब्धि पर दी ये प्रतिक्रिया

अपनी इस उपलब्धि के बाद पिछले दो सालों से चोटों से जूझ रहे डेल स्टेन ने कहा कि चोटों से वापसी के बाद उन्हें 430 विकेट वाले गेंदबाज की जगह 20 विकेट लेने वाले गेंदबाज की तरह अहसास हो रहा था. लेकिन वह खुशकिस्मत हैं कि वह चोट से वापसी कर सके.

स्टेन ने कहा, ‘दो साल तक नहीं खेलने के बाद, फिर से खेलना मेरे लिए एक वरदान जैसा अहसास है. मुझे लगभग फिर से शुरुआत करनी पड़ी. मैं 430 विकेटों पर नहीं, बल्कि शॉन पोलाक का रिकॉर्ड तोड़ने के बाद से 20 विकेट पर था. पाकिस्तान के खिलाफ तीन टेस्ट मैचों की सीरीज खत्म करना शानदार रहा और किसी ने ये नहीं लिखा, ‘वह रिटायरमेंट से सिर्फ एक चोट दूर हैं. फिर से योगदान देकर अच्छा लगा. उम्मीद है कि मैं इसे आगे भी जारी रह सकूं.’

Tags:
COMMENT