उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले के घोरावल कोतवाली क्षेत्र अन्तर्गत आने वाली ग्राम पंचायत मूर्तिया का उम्भा गांव एक दु:स्वप्न है, जहां 17 जुलाई 2019 को नब्बे बीघा जमीन पर जबरन कब्जे के लिए भयंकर नरसंहार हुआ और गोंड आदिवासियों को सरेआम गोलियों से भून दिया गया. दस आदिवासियों की मौके पर ही मौत हो गयी, जिसमें तीन औरतें भी शामिल हैं, जबकि कई घायल अभी भी अस्पताल में जीवन-मृत्यु के बीच झूल रहे हैं. आदिवासियों द्वारा जोती जा रही जमीन कब्जाने के लिए इस भयानक घटना को ग्राम प्रधान यज्ञवत गुर्जर और उसके साथियों ने अंजाम दिया था.

Tags:
COMMENT