सत्ता की कुर्सियों पर सदियों से धर्म विराजमान रहा है. राजा पुरोहितों के कहे अनुसार राज संचालित करते रहे पर यूरोप में धर्म से जब लोग उकता गए तो नवजागरण आंदोलन छेड़ा गया और फ्रांस में चर्च की विलासिता और व्याभिचार के चलते क्रांति का बिगुल फूंका गया. इस तरह की क्रांतियों के असर से विश्व भर में लोकतंत्रों का विकास होने लगा.

Tags:
COMMENT