हिन्दू धर्म में अंतिम संस्कार का अपना एक अलग ही विधान पुराणजीवियों के द्वारा बताया गया है. इसमें मरने के बाद सबसे पहले यह देखा जाता था कि मरने वाला अच्छे समय में मरा है या नहीं. अगर मरते समय पंचक लगा होता था तो अंतिम क्रिया के पहले पंचक शाति के लिये पूजा होती थी. अंतिम क्रिया में चिता की लकडी आम और चंदन का प्रयोग होता था. घी और गंगाजल का प्रयोग होता था. शव की अंतिम क्रिया से पहले नदी के पानी में नहलाया जाता था.

मरने वाले की आत्मा को शाति मिले इसके लिये गाय का दान और कई तरह के दान पंडित को दिये जाते थे. चिता के शव की राख को ले जाकर गंगा दी में प्रवाहित किया जाता था. क्योकि हिन्दू धर्म में अंतिम क्रिया गंगा के किनारे सबसे श्रेष्ठ मानी जाती है. अब हर शव गंगा के किनारे नहीं जलाया जा सकता इस कारण शव की चिता के अंष को गंगा में प्रवहित करने का चलन था. अंतिम संस्कार के बाद तेरहवी का संस्कार होता था. जिसमें बाल बनवाने से लेकर दावत खिलाने तक के काम होते थे.

ये भी पढ़ें- कोरोना नहीं लॉकडाउन का डर, फिर लौटे प्रवासी मजदूर अपने आशियाने की ओर

ना दान ना संस्कार:

कोरोना काल में इस अंतिम संस्कार की परिभाषा बदल गई है. जिन लोगों मौत कोरोना से हो रही है उनके शव को अंतिम संस्कार के लिये घर वालों को नहीं दिया जाता है. यह शव पूरी तरह से पीपी किट में पैक होता है. अस्पताल से शव दाह संस्कार के लिये घाट पर ले जाया जाता है. वहां लकडी की जगह पर बिजली से शव को जलाया जाता है. शव को पीपी किट सहित की जला दिया जाता है. कोरोना से मरने वालों की संख्या बढने के बाद बिजली से जलाने में 3 से 4 घंटे का वक्त लगता है. ऐसे में अब खुले में लकडियों के सहारे ही शवदाह होने लगा है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...