हिन्दू धर्म में अंतिम संस्कार का अपना एक अलग ही विधान पुराणजीवियों के द्वारा बताया गया है. इसमें मरने के बाद सबसे पहले यह देखा जाता था कि मरने वाला अच्छे समय में मरा है या नहीं. अगर मरते समय पंचक लगा होता था तो अंतिम क्रिया के पहले पंचक शाति के लिये पूजा होती थी. अंतिम क्रिया में चिता की लकडी आम और चंदन का प्रयोग होता था. घी और गंगाजल का प्रयोग होता था. शव की अंतिम क्रिया से पहले नदी के पानी में नहलाया जाता था.

Tags:
COMMENT