नन्हेमुन्नों की रंगबिरंगी पत्रिका चंपक के चंपक क्रिएटिव चाइल्ड कौंटैस्ट के जरिए इस बार हम पहुंचे एक ऐसे शिक्षण संस्थान में जहां संवर रही है आदिवासी बच्चों की जिंदगी. आदिवासी बच्चों को पढ़ेलिखे सभ्य समाज का हिस्सा बनाते इस संस्थान की पूरी कहानी पढि़ए इस रिपोर्ट में.

देशभर के स्कूलों के बच्चों के हुनर को राष्ट्रीय मंच दे रही दिल्ली प्रैस पत्रिका समूह की नन्हेमुन्नों की रंगबिरंगी पत्रिका ‘चंपक’ का ‘चंपक क्रिएटिव चाइल्ड कौंटैस्ट 2013-14’ का पहला राउंड शबाब पर है. बच्चे इस में बढ़चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं. चंपक टीम उन के जज्बे को इनाम और खिताब से नवाज रही है.

COMMENT