सवाल

मेरी उम्र 32 वर्ष है. मेरे ससुर का कुछ दिन पहले ही देहांत हुआ है और सास तो बरसों पहले ही गुजर चुकी हैं. मेरे पति और जेठ का मेरी ननद से रिश्ता हमेशा से अच्छा रहा है. लेकिन, अब ससुर के देहांत के बाद उन की संपत्ति के बंटवारे के नाम पर उन के रिश्ते में दरार आने लगी है. मेरे पति और जेठ का कहना है कि पिता के लिए मेरी ननद ने आज तक कुछ नहीं किया तो अब पैसे मांगने क्यों आ रही है. इस पर मेरी ननद का कहना है कि इस के लिए उसे कोर्ट भी जाना पड़ा तो वह जाएगी. इन सब में मैं नहीं चाहती कि इन सभी में यह मनमुटाव हो और रिश्ते खराब हों. मुझे इस स्थिति में क्या करना चाहिए?

ये भी पढ़ें- मैं अपने से 8 साल छोटे व्यक्ति से प्यार करती हूं और उससे शादी करना चाहती हूं. मैं क्या करूं ? 

जवाब

देखिए, आप की ननद जो कुछ भी कह रही है वह बिलकुल सही है. पिता की संपत्ति में बेटी का उतना ही हक होता है जितना कि बेटे का. यह कानूनन मान्य भी है. ऐसे में आप के पति और जेठ का अपनी बहन को पिता की संपत्ति में हिस्सा न देने वाली बात सही नहीं है. उन का यह कहना कि उस ने पिता के लिए कुछ नहीं किया या वह अचानक ही पैसे मांगने आ गई है, पूर्ण रूप से तर्कहीन है. भारतीय समाज की यह सोच, कि बेटी की शादी में जो खर्च करना था, कर दिया और अब वह पराई है तो किसी तरह का हिस्सा न मांगे, खोखली है.

आप यदि रिश्तों का मान रखना चाहती हैं तो अपने पति और जेठ को समझाइए कि अपनी सोच बदलें और खुशीखुशी बहन को हिस्सा दे दें. वे अपनी इस संकुचित मानसिकता में बंधे रहेंगे तो बहन के साथ रिश्ता तो खत्म होगा ही, साथ ही कोर्ट के चक्कर लगातेलगाते नानी याद आ जाएगी.

ये भी पढ़ें- मैं अपने दोस्त की पत्नी के साथ फिजिकल रिलेशन में हूं और हमारा एक बेटा भी है. मुझे क्या करना चाहिए?

Tags:
COMMENT