जब कोई भाजपा का चेहरा, बड़ा नाम बातोंबातों में अचानक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘ईश्वर’ से भी आगे बताने लगे तो समझने की बात है कि अंदर खाने क्या भावना काम कर रही है. उड़ीसा के पुरी लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार संबित पात्रा जो एक समय तो भाजपा के चेहरे माने जाते थे और हर टीवी चैनल पर सुर्खियों में रहते थे डिबेट इन्हीं से प्रारंभ होती थी और इन्हीं पर खत्म होती थी. एक स्थानीय टीवी चैनल से कहने लगे, “भगवान जगन्नाथ मोदी के भक्त हैं."
यह बात कहना यह बताता है कि संबित पात्रा जैसे मंजे हुए भाजपा के चेहरे की सोच क्या है और आने वाले वक्त में अगर यह सत्ता सीन हो जाएं तो इंतेहा हो जाएगी. शायद यही कारण है कि संबित पात्रा के बातों को सुन कर उड़ीसा राज्य में आक्रोश फैल गया.

फिर जैसा कि बाद में होता है उन्होंने इसे 'जुबान की फिसलन' बता दिया. पात्रा की इस टिप्पणी के बाद उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भाजपा से भगवान जगन्नाथ को राजनीति में न घसीटने की अपील कर सदाशयता का परिचय दिया.
लोकसभा चुनाव लड़ रहे संबित पात्रा पुरी में एक रोड शो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ शामिल हुए थे. इसी दरमियान एक समाचार चैनल से साक्षात्कार के समय संबित पात्रा ने स्थानीय उड़िया में कहा, "भगवान जगन्नाथ मोदी के भक्त हैं, और हम सभी मोदी के परिवार के सदस्य है." यह अंध भक्ति की पराकाष्ठा कही जा सकती है, जब पढ़ेलिखे संबित पात्रा जैसे लोग भेड़ बकरी की तरह व्यवहार करने लगे तो समझना चाहिए कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश किस दिशा में जा रहा है.
कुल मिला कर के संबित पात्रा के इस बयान और विवाद के बाद कम से कम उड़ीसा में भाजपा का सुपड़ा साफ होना स्पष्ट दिखाई दे रहा है.
देशभर में आक्रोश दिखा

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
 
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
 
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...