सोशल मीडिया दुनिया के ऐसे लोगों को जोड़ रहा है जो नजर से बहुत दूर हैं जबकि वह उन अपनों को दूर कर रहा है जो नजर के सामने हैं.

एक समय था जब चिट्ठियों के सहारे हम जिंदगी के सुखदुख बांट लिया करते थे. चिट्ठियों के इंतजार में यादें संजोया करते थे. चिट्ठी यदि लेट भी आया करती थी तो उस को पढ़ने की उत्सुकता और बढ़ जाती थी. लेकिन आज सबकुछ बदल चुका है. बढ़ती टैक्नोलौजी के कारण लोगों के जीवन और रिश्ते दोनों में खासा बदलाव देखने को मिला है.

Tags:
COMMENT