यह बात कोई और कहता तो उसकी मंशा पर शक किया जा सकता था. लेकिन ऐश्वर्या के आरोप को एकदम नजरंदाज नहीं किया जा सकता कि उनके पति तेजप्रताप ड्रग एडिक्ट हैं. ऐश्वर्या ने यह आरोप अदालत में लगाया है, जो तेजप्रताप की ऊटपटांग हरकतों को देखते सच के नजदीक लगता है. गौरतलब है कि एश्वर्या की शादी लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे बिहार के स्वास्थ मंत्री रहे तेजप्रताप यादव मई 2018 में हुई थी. मियां बीबी में उम्मीद से कम वक्त में ही खटपट शुरू हो गई थी जिसके चलते तेजप्रताप ने एश्वर्या पर तलाक का मुकदमा दायर कर दिया था .

बेइंतहा खूबसूरत ऐश्वर्या ने अपने जबाब में धारा 26 घरेलू हिंसा अधिनियम 2005 के तहत परिवार अदालत में आवेदन देते अपनी सुरक्षा की भी गुहार लगाई है. बकौल ऐश्वर्या तेजप्रताप मारिजुयाना नाम की ड्रग का सेवन करते हैं और उन्हें प्रताड़ित भी करते हैं. इस बारे में उन्होंने अपनी ससुराल वालों को बताया लेकिन किसी ने उनकी मदद नहीं की. इस बात का एहसास ऐश्वर्या को शादी के कुछ दिनों बाद ही हो गया था कि तेजप्रताप ड्रग्स लेते हैं और गांजा भी पीते हैं .

तलाक का यह हाइप्रोफाइल मुकदमा अब बेहद दिलचस्प मोड़ पर आ पहुंचा है जिसमें ऐश्वर्या ने यह भी आरोप लगाया है कि तेजप्रताप खुद के शिव का अवतार होने का दावा करते हैं. और एक बार तो ड्रग लेने के बाद उन्होंने घाघरा चोली पहन कर राधा का रूप रख लिया था. सवाल जवाब करने पर वह गांजे को भोले बाबा का प्रसाद बताते हैं और राधा ही कृष्ण और कृष्ण ही राधा है का राग अलापने लगते हैं.

ये भी पढ़ें- सुषमा स्वराज का सफरनामा: कूटनीतिक मोर्चे पर भी जीनियस

इसमें कोई शक नहीं कि एश्वर्या झूठ नहीं बोल रहीं हैं क्योंकि तेजप्रताप की ये उलूल जुलूल हरकतें आए दिन सार्वजनिक रूप से भी चर्चा का विषय बनती रहती हैं. कुछ दिन पहले ही उनका एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था जिसमें वे शिव बने नजर आ रहे हैं .

उनके गले में सांप सी आकृति भी लटकी है और हाथ में त्रिशूल भी है. पूरे शरीर पर भस्म लगी है और वे कमर में जानवर की खाल लपेटे हुये हैं. इतना ही नहीं कभी वे कृष्ण बन जाते हैं और हर कभी धर्म स्थलों की सैर पर निकल जाते हैं. कभी वे मजदूरों की तरह सड़कों पर काम करते भी नजर आते हैं और तांत्रिकों के पास तो हर कभी जाते रहते हैं.

इसमें भी कोई शक नहीं कि तेजप्रताप एक असामान्य व्यक्ति हैं. जिसका व्यावहारिकता से कोई वास्ता नहीं लगता ऐसा है कि उन्होंने शिजोफ़्रेनिया के मरीज की तरह अपनी एक काल्पनिक दुनिया बना रखी है. और वे उसी को हकीकत मानते हैं. मुमकिन है ऐश्वर्या की मांग पर उन्हें चिकित्सीय जांचों से भी होकर गुजरना पड़े.

लालू यादव के कुनबे की राजनीति खात्मे की कगार पर है तो इसकी एक बड़ी वजह उनके बच्चों की परवरिश में कोताही और लापरवाही भी है. खुद लालू भी अपनी मजाकिया हरकतों के चलते सुर्खियों में रहते थे लेकिन वे हरकतें तेजप्रताप जितनी सनक भरी नहीं होती थीं. चारा घोटाले में जेल की सजा भुगत रहे कल के इस दिग्गज और जमीनी नेता को इतने दुर्दिन देखना पड़ेंगे. यह किसी ने नहीं सोचा था. रेलवे के घोटालों में भी फंसे खुद लालू यादव कई गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हैं. उन्होंने कुछ दिनों पहले ही मांसाहार की इच्छा जताई थी जिसे उनकी गिरती सेहत देखते हुये डाक्टरों ने नकार दिया था.

लालू की सत्ता और भूतपूर्व बादशाहत उनके बेटे संभाल नहीं पाये तो इसकी बड़ी वजह उनका यह मान लेना दिखती है कि लोग हमेशा उन्हें चाहते रहेंगे और वोट देते रहेंगे. लेकिन लोकसभा चुनाव में जिस तरह राजद का सूपड़ा साफ हुआ उससे यह भी साफ हो गया है कि अब लालू परिवार की राजनीति खत्म हो चली है.

नई दिक्कत तेजप्रताप ने खड़ी कर दी है जिन्हें अपने पिता के रसूख से कोई वास्ता नहीं उल्टे वह आए दिन उल्टे सीधे ऐसे फसाद खड़े करते रहते हैं. जिन्होंने उन्हें मजाक से ज्यादा तरस का पात्र बना दिया है. सहानुभूति ऐश्वर्या जैसी पत्नियों से होना स्वभाविक है. जिनके पल्ले खब्त पति पड़ जाता है तो उन्हें दुनिया भर की दुश्वारियों से जूझना पड़ता है.

ये भी पढ़ें- जब इस ब्यूटी कौन्टेस्ट का हिस्सा बनी थीं सुषमा स्वराज

Tags:
COMMENT