कोई लेखक विश्वप्रसिद्ध धरनों पर शृंखलाबद्ध किताब लिखना चाहे तो उस की दौड़ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से शुरू हो कर उन्हीं पर खत्म हो जानी तय है. पूर्व धरनों की तरह उन का दिल्ली के एलजी के खिलाफ दिया गया ताजा धरना भी सुपरडुपर हिट रहा. धरने कब, क्यों, कहां और कैसे दिए जाने चाहिए, यह नवोदित नेता अरविंद केजरीवाल से सीख सकते हैं. भाजपा के प्रतिक्रियात्मक धरनों ने तो केजरीवाल के इस धरने में चारचांद ही लगाए.

जो बात कई दिनों से बयानों और भाषणों के जरिए दिल्ली की जनता को समझाने की कोशिश अरविंद केजरीवाल कर रहे थे वह धरने के बाद साबित हुई कि जनता के असली दुश्मन नौकरशाह और भाजपा के इशारों पर नाचने वाले एलजी हैं.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT