“वक्त रहता नहीं कहीं टिक कर, इसकी आदत भी आदमी सी है. "गीतकार गुलजार की गजल की यह पंक्तियां  2019 पर बहुत सटीक बैठती है. इस साल कई राजनेता, पूर्व मंत्री  एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री  हम लोगों के बीच से सदा के लिए इस दुनिया को अलविदा कह कर चले गये.  तो चलिए याद करते हैं, उन सभी शक्सियत को एक साथ...

Tags:
COMMENT