लेखक- शाहनवाज

“अन्न का कोई धर्म नहीं होता”“खाना दिलों को जोड़ने का काम करता है, न की तोड़ने का”
ये कुछ तरह के वाक्य आप ने भी आप ने भी जीवन में कभी न कभी सुने ही होंगे. लेकिन हाल ही में देश की राजधानी दिल्ली में कुछ ऐसा हुआ जिसे यदि आप सुनेंगे तो एक पल ये सोचने के लिए मजबूर हो जाएंगे की शायद ऊपर लिखे हुए वाक्य अभी भी कुछ लोगों के दिलों दिमाग से कोसों दूर है. वें अपने दिलों में असीम नफरत और भेदभाव भरे हुए हैं. इस के साथ ही वें अपनी दिमागी बेवकूफी का परिचय भी देते हैं.

Tags:
COMMENT