राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने हाल ही में तलाक को लेकर जो बयान दिया है, उससे स्त्रियों के प्रति उनकी दकियानूसी सोच तो जाहिर होती ही है, यह भी पता चलता है कि भारतीय समाज के बारे में उनकी जानकारी कितनी कम है. भागवत ने कहा कि - ‘तलाक के ज्यादातर मामले पढ़े-लिखे और सम्पन्न परिवारों में ही देखने को मिल रहे हैं. इन दिनों शिक्षा और आर्थिक सम्पन्नता के साथ लोगों में घमंड भी आ रहा है, जिसके कारण परिवार टूट रहे हैं.’

Tags:
COMMENT