उसके लिए ज़िदगी

खुला आसमान

बे-छोर, बे-बंधन, बे-छत, बे-दीवार

खेलो-खाओ, पियो-जियो

मेरे लिए ज़िदगी

कल्पना नहीं, नशा नहीं, स्वप्न नहीं

सिर्फ हकीकत

मुश्किलों का सामना करती

जूझती, लड़ती , आगे बढ़ती

बंधनों के साथ, दायरों के साथ

वो समझौतों से परे, मैं समझौतों के साथ

दोनों विपरीत, दोनों भिन्न

ख़याल भिन्न, व्यवहार भिन्न, परिस्थितियां भिन्न

फिर भी

साथ चलने की धुन

तो

नफरत - मोहब्बत

धमकी - चुंबन

Tags:
COMMENT