कई प्रेमी हैं, जो अपनी प्रेमिका के पेरैंट्स का सामना नहीं कर पाते. यही कारण है कि वे उन से मिलना टालते रहते हैं या इस से बचना चाहते हैं. वे अपनी प्रेमिका के पिता से मिलने के बजाय उस के साथ भाग कर शादी करना चाहते हैं, लेकिन प्रेमिका अपने पेरैंट्स की रजामंदी से शादी करना चाहती है. यदि आप अपनी प्रेमिका के पिता से उन की बेटी का हाथ मांगने जा रहे हैं तो कुछ बातों का ध्यान रखें ताकि पहली मुलाकात में ही आप का अच्छा प्रभाव उन पर पड़े और वे आप के जवाब से संतुष्ट हो जाएं…

  1. पहली मुलाकात में ही लुभाएं…

आप की हरसंभव कोशिश होनी चाहिए कि पहली ही मुलाकात में उन्हें अपने पक्ष में कर पाएं. अपनी प्रेमिका के पिता से मुलाकात से पहले उन के स्वभाव या मिजाज के बारे में उस से पूछताछ कर लें. उन्हें किस तरह के लोग पसंद हैं, यह भी पूछ लें. आप उसी के अनुरूप अपना आचरण और व्यवहार रखें. इसी प्रकार उन की पसंद-नापसंद की भी जानकारी लें. वे किन मुद्दों पर बातचीत करना पसंद करते हैं. यदि यह सब आप को पहले से ही पता हो तो उन से बात करना आसान हो जाएगा और बातचीत रुचिकर भी होगी.

ये भी पढ़ें- जानें बड़ी उम्र के लड़के के साथ डेटिंग करने के फायदे

2. मोबाइल को करे साइलेंट…

जब आप प्रेमिका के पेरैंट्स से पहली बार मिलने जाएं तो अपने मोबाइल को साइलैंट मोड पर डाल दें. बातचीत के दौरान बारबार मोबाइल की घंटी बजना बातचीत में व्यवधान पैदा करता है.

3. पहली मुलाकात में ही बड़बोले न बनें…

पहली मुलाकात में ही बड़बोले न बनें. न अपने मुंह मियां मिठ्ठू बनने की कोशिश करें. अपनी हैसियत बढ़ाचढ़ा कर पेश न करें. हकीकत में जो है, वही बताएं. यदि आप की आमदनी कम है, तो उसे बढ़ाने के लिए आप के दिमाग में क्या योजना है, उन्हें बताएं. यदि वर्तमान में आप बेरोजगार हैं, तो शादी के बाद परिवार कैसे चलाएंगे, इस बारे में भी उन्हें संतोषजनक जवाब दें ताकि उन्हें अपनी बेटी का हाथ आप के हाथ में देने में कोई परेशानी न हो.

ये भी पढ़ें- टिप्स: टूटे हुए रिश्ते में दोबारा कैसे बनाए विश्वास

4. फर्स्ट इंप्रैशन इज द लास्ट इंप्रैशन

अंगरेजी में एक कहावत है, फर्स्ट इंप्रैशन इज द लास्ट इंप्रैशन. यदि पहला प्रभाव ही खराब हो गया तो बात आगे बढ़ने के बजाय वहीं खत्म हो जाएगी क्योंकि वे फिर आसानी से मानने वाले नहीं हैं. चूंकि वे एक पिता हैं, इस नाते उन्हें यह अधिकार है कि वे लड़के के बारे में पूर्ण तसल्ली और संतोष कर लें ताकि उन की बेटी को बाद में पछताना न पड़े.

5. टाइम पर पहुंचे

जब भी पहली मुलाकात फिक्स हो, नियत समय पर पहुंचने की कोशिश करें. लड़के या लड़की के पेरैंट्स को इंतजार कराना ठीक नहीं. अन्यथा यह संदेश जाएगा कि आप वक्त के पाबंद नहीं हैं. आप को उन के समय की कीमत समझनी चाहिए. यदि किन्हीं अपरिहार्य कारणों से आप को पहुंचने में विलंब हो रहा हो, तो इस बारे में उन्हें अवश्य सूचित करें.

ये भी पढ़ें- कहीं आप भी तो नहीं है टौक्सिक रिलेशनशिप का शिकार, ऐसे लगाए पता

6. पहली मीटिंग में ओवरस्मार्ट न बनें…

पहली मीटिंग में ओवरस्मार्ट बनने की कोशिश न करें और न ही दब्बू नजर आएं. उन्हें अपनी बेटी के लिए स्मार्ट लड़का चाहिए जो आधुनिक विचारों वाला हो और महिलाओं की इज्जत करता हो. आजकल लड़कियां भी जौब करना चाहती हैं, हो सकता है कि उस के पिता इस संबंध में आप के विचार जानना चाहें कि शादी के बाद आप उसे नौकरी करने देंगे या नहीं. इस बात का उत्तर स्पष्ट व सकारात्मक ही देना चाहिए.

7. पहनावे पर दें ध्यान…

आप को अपने पहनावे पर भी खास ध्यान देना चाहिए. पोशाक सौम्य होनी चाहिए, भड़कीली नहीं. मौसम के अनुकूल पोशाक हो तो बेहतर अन्यथा आप असहज ही रहेंगे.

ये भी पढ़ें- आखिर क्यों नहीं करना चाहिए बेस्ट फ्रेंड से प्यार, जानें 4 कारण

8. साफ-साफ करें बात

बातचीत करते समय यह ध्यान रहे कि आप को उन की बात सुननी है और उन के प्रश्नों के उत्तर देने हैं. प्रश्नों के जवाब सीधे और सपाट होने चाहिएं. घुमाफिरा कर जवाब देने की प्रवृत्ति ठीक नहीं.

9. रखे हर चीज की जानकारी

आप को धर्म, राजनीति, आध्यात्म, योग आदि के बारे में भी जानकारी होनी चाहिए, क्योंकि पहली बार की मीटिंग में इन्हीं सब बातों पर भी चर्चा हो सकती है. आप की बातों से आप का आत्मविश्वास झलकना चाहिए. यदि किसी मुद्दे पर विवाद होता दिखाई दे तो बात बदल देनी चाहिए.

(Edited By- Nisha Rai)

Tags:
COMMENT