वातावरण में बढ़ते प्रदूषण के चलते दमा यानी अस्थमा रोग हर उम्र के लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है. दमे का रोग न करे आप का जीना दूभर, इस के लिए किन बातों का रखें ध्यान, जानकारी दे रहे हैं डा. उपेंद्र कौल. दिल्ली की 11 प्रतिशत जनसंख्या दमे से पीडि़त है. इस की वजह तेजी से बढ़ता हवा प्रदूषण और लोगों में बढ़ती धूम्रपान की आदत है. दमा अपने आप में चिंता का विषय है, उस से भी ज्यादा चिंता का विषय है दमा, हार्ट अटैक और स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारियों का संबंध. एक जैसे लक्षणों की वजह से बहुत से ऐसे मामले सामने आते हैं जिन में कंजस्टिव हार्ट फेल्योर को दमा का अटैक समझ लिया जाता है. दोनों के इलाज की अलगअलग पद्धति होने और जांच में देरी होने से गंभीर जटिलताएं हो सकती हैं और वह जानलेवा भी साबित हो सकता है.

Tags:
COMMENT