सर्दी में दिल के मरीजों के लिए जोखिम काफी बढ़ जाता है. कई चिकित्सकों का मानना है कि इस दौरान दिल का दौरा पड़ने के ज्यादा मामले सामने आते हैं. खास तौर पर सुबह में क्योंकि उस वक्त रक्त वाहिकाएं सिम्पेथेटिक ओवर एक्टिविटी के कारण संकुचित होती हैं. वहीं अगर वातावरण में धुआं हो तो जोखिम दोगुना हो जाता है. चिकित्सकों के मुताबिक, सर्दियों में हवा की धीमी गति और हवा में नमी के स्तर बढ़ जाती है. इस कारण हवा की स्थिति खराब हो जाती है, क्योंकि प्रदूषक तत्व हवा में बने रहेंगे और इधर-उधर फैल नहीं पाते.

Tags:
COMMENT