लेखक- डा. महिपाल एस. सचदेव,

दृष्टि हमारी बहुमूल्य इंद्रिय है, अपने आसपास की दुनिया देखने की खिड़की है. कुछ ऐसे ही लोग सिर्फ सूर्य की रोशनी का महत्व समझ सकते हैं, जिन्होंने अपनी जिंदगी का कुछ पल अंधेरे में गुजारा है. हमें इलाज की बेहतर सुविधाओं के जरीए अस्थायी नेत्रहीनता दूर करने पर जोर देना चाहिए, क्योंकि नेत्रहीनता से प्रभावित प्रत्येक 5 में से 4 व्यक्तियों का इलाज संभव हो सकता है.

Tags:
COMMENT