प्रो. रवि प्रकाश धान खरीफ की मुख्य फसल है. अगर कुछ बातों का शुरू से ही ध्यान रखा जाए, तो धान की फसल ज्यादा मुनाफा देगी. धान की खेती की शुरुआत नर्सरी से होती है, इसलिए बीजों का अच्छा होना जरूरी है. कई बार किसान महंगा बीजखाद तो लगाते हैं, लेकिन सही उपज नहीं मिल पाती है, इसलिए बोआई से पहले बीज व खेत का उपचार कर लेना चाहिए.

बीज महंगा होना जरूरी नहीं है, बल्कि विश्वसनीय और आप के क्षेत्र की जलवायु और मिट्टी के मुताबिक होना चाहिए. जगह के हिसाब से धान की किस्में विकसित की जाती हैं, इसलिए किसानों को अपने जनपद या क्षेत्र के हिसाब से विकसित किस्मों की ही खेती करनी चाहिए. मई महीने की शुरुआत से किसानों को खेती की तैयारी शुरू कर देनी चाहिए, ताकि मानसून आते ही धान की रोपाई कर दें.

किसानों को बीज शोधन के प्रति जागरूक होना चाहिए. बीज शोधन कर के धान को कई तरह के रोगों से बचाया जा सकता है. नर्सरी डालने का समय अगर मई महीने के आखिरी हफ्ते में नर्सरी नहीं डाली हो, तो जून के पहले पखवाड़े तक नर्सरी जरूर डाल दें. सुगंधित किस्मों की नर्सरी जून के तीसरे हफ्ते में डालनी चाहिए.

ये  भी पढ़ें- धान की स्वस्थ पौध तैयार करने की तकनीक

  1. अपने क्षेत्र के हिसाब से करें धान की किस्मों का चयन : ज्यादातर किसान बीज विक्रेता, अपने पड़ोसी या रिश्तेदार के कहने पर ही धान के बीज को चुनते हैं, जबकि प्रदेश में अलगअलग क्षेत्र के हिसाब से धान की किस्मों को विकसित किया जाता है, क्योंकि हर जगह की मिट्टी, वातावरण अलग तरह का होता है. अपने क्षेत्र के लिए विकसित धान की किस्मों का चयन करें, तभी अच्छी पैदावार मिलेगी. पूर्वांचल के लिए विकसित किस्में असिंचित दशा में : नरेंद्र-118, नरेंद्र-97, साकेत-4, बरानी दीप, शुष्क सम्राट, नरेंद्र लालमनी. 90-110 दिन में पक कर तैयार. सीधी बोआई. 15 जून से जुलाई का पहला हफ्ता. सिंचित दशा में : सिंचित क्षेत्रों के लिए जल्दी पकने वाली किस्मों में पूसा-169, नरेंद्र-80, पंत धान-12, मालवीय धान-3022, नरेंद्र धान-2065. पकने की अवधि 90-125 दिन. उपज क्षमता 45-60 क्विंटल प्रति हेक्टेयर.

2. मध्यम पकने वाली किस्में : पंत धान-10, पंत धान-4, सरजू-52, नरेंद्र- 359, नरेंद्र-2064, पूसा-44, पीएनआर-381 प्रमुख किस्में हैं, जो 125-135 दिन में पक कर तैयार हो जाती हैं. उपज 60-65 क्विंटल प्रति हेक्टेयर. ऊसरी जमीन के लिए धान की किस्में नरेंद्र ऊसर धान-3, नरेंद्र धान-5050, नरेंद्र ऊसर धान-2008. अवधि 125-145 दिन. उपज 45-55 क्विंटल प्रति हेक्टेयर. जलभराव क्षेत्र के लिए किस्में : वीपीटी-5204, एएनडीआर-8002, स्वर्णा सब-1, जो 145-155 दिन में पक कर तैयार होती है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT