देश के ज्यादातर किसान अब खेती में आधुनिक यंत्रों का इस्तेमाल करने लगे हैं. फसल की कटाई व थ्रेशिंग का काम अब कृषि यंत्रों से होने लगा है. ज्यादातर किसानों द्वारा ट्रैक्टर का इस्तेमाल करना सामान्य सी बात हो गई है और लगता है कि इसी बात को ध्यान में रखते हुए महिंद्रा कृषि यंत्र निर्माता कंपनी ने ट्रैक्टर के सहयोग से चलने वाला हार्वेस्टर बनाया है जो फसल की कटाई और थ्रेशिंग का काम आसानी से करता है.

महिंद्रा बैक पैक हार्वेस्टर

यह यंत्र ट्रैक्टर पर लगा होता है. बैक पैक हार्वेस्टर गेहूं, चावल, जई और इसी तरह की दूसरी फसलों की कटाई करता है. यह यंत्र छोटे और मध्यम दर्जे के किसानों के लिए बड़े ही काम का है. इस के इस्तेमाल से किसान खुद अपनी फसल की कटाई, गहाई के अलावा दूसरे किसानों की फसल कटाई वगैरह का भी काम कर सकता है जिस में अतिरिक्त आमदनी हो सकती है.

इस यंत्र की खूबी : यह बैक पैक हार्वेस्टर दमदार, मजबूत और खेती के काम के लिए भरोसेमंद है. इसे खास तरीके से बनाया गया?है जो?ट्रैक्टर पर आसानी से रखा जा सकता?है. छोटे खेतों में भी इसे आसानी से मोड़ा जा सकता?है. इस के कटर बार 7 फुट के बने हैं. कम पुरजे और आसान तकनीक से बनाए गए इस हार्वेस्टर को इस्तेमाल करना आसान है.

चूंकि यह हार्वेस्टर ट्रैक्टर से संचालित होता?है, इसलिए किसानों को जरा भी कठिनाई नहीं आती. महिंद्रा ट्रैक्टर के साथ फायदे : 540 आरपीएम पर ज्यादा पीटीओ शक्ति (पावर) मौजूद होने के चलते ईंधन की खपत कम होती है. ड्रम में फंसी सामग्री अवशेषों को आसानी से बाहर फेंक देता है.

ये भी पढ़ें- कपास को कीड़ों से बचाने के लिए इन तरीकों का करें इस्तेमाल

ट्रैक्टर माउंटेड कंबाइन हार्वेस्टर 

गेहूं, धान जैसी फसल कटाई और उस की थ्रेशिंग के लिए महिंद्रा कंबाइन हार्वेस्टर बेहतर काम करता है. फसल काटते समय ट्रैक्टर हार्वेस्टर पर माउंटेड होता?है जिस के द्वारा ही हार्वेस्टर सही दिशा में चलता है.

फसल कटने के दौरान अनाज यंत्र में लगे टैंक में इकट्ठा होता जाता है और शेष भूसा व अवशेष खेत में ही रह जाते हैं. जब टैंक अनाज से भर जाता?है तो हार्वेस्टर में लगे पाइप के जरीए इसे किसी दूसरे ट्रैक्टरट्रौली में भर लिया जाता है.

यह कंबाइन हार्वेस्टर फसल कटाई, थ्रेशिंग व अनाज की सफाई करता है. साथ ही, अनाज को बोरों में भी भरता है. हार्वेस्टर का मौडल बी. 525 है.

जब फसल कटाई का काम नहीं है, उस समय ट्रैक्टर से कंबाइन हार्वेस्टर को उतार लिया जाता है और ट्रैक्टर से खेती के दूसरे काम किए जा सकते?हैं.

इस हार्वेस्टर को महिंद्रा के?ट्रैक्टर अर्जुन (नोवो) 605 के साथ बेहतर तालमेल?है, जिस में 57 एचपी की शक्ति है. इस में ईंधन की खपत भी कम होती है और इसे ट्रैक्टर के साथ जोड़ना और हटाना भी आसान है.

ये भी पढ़ें- बागबानों को उन्नति का रास्ता दिखा रहा फल उत्कृष्टता केंद्र

अधिक जानकारी के लिए आप ट्रोल फ्री नंबर 18004256576 पर बात कर सकते हैं.    

Tags:
COMMENT