सहायक कृषि अधिकारी, सरमथुरा, धौलपुर

दलहन की एक प्रमुख फसल मूंग है. इस का वानस्पतिक नाम विगना रेडिएटा है. यह लेग्यूमिनेसी कुल का पौधा है. इस का जन्मस्थान भारत है. मूंग के दानों में 25 फीसदी प्रोटीन, 60 फीसदी कार्बोहाइड्रेट, 13 फीसदी वसा और अल्प मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है.

रोगियों के लिए मूंग बहुत पौष्टिक बताई जाती है. मूंग की दाल से पापड़, बडि़यां और लड्डू भी बनाए जाते हैं. मूंग की दाल खाने में शीतल व पचने में हलकी होती है.

यदि हम इस की फसल उगाते हैं, तो ये नाइट्रोजीकरण का काम करती है और भूमि में नाइट्रोजन की मात्रा बढ़ाती है, जिस की बदौलत अन्य फसलें भी अधिक उत्पादन देती हैं.

ऐसी हो जलवायु

मूंग की खेती जायद यानी गरमी के मौसम में की जा सकती है. इस की फसल के लिए अधिक वर्षा हानिकारक होती है.

ऐसे क्षेत्रों में जहां 60-75 सैंटीमीटर तक वार्षिक वर्षा होती हो, मूंग की खेती के लिए उपयुक्त है, पर मूंग की फसल के लिए गरम जलवायु की आवश्यकता पड़ती है.

भूमि का चुनाव

मूंग की खेती सभी प्रकार की भूमि में सफलतापूर्वक की जाती है. मध्यम दोमट, मटियार भूमि समुचित जल निकास वाली, जिस का पीएच मान 7-8 हो, इस के लिए उत्तम है.

खेत की तैयारी

खेत की पहली जुताई हैरो या मिट्टी पलटने वाले रिजर हल से करनी चाहिए. उस के बाद 2-3 जुताई कल्टीवेटर से कर के खेत को अच्छी तरह भुरभुरा बना लेना चाहिए. आखिरी जुताई में लेवलर लगाना जरूरी है. इस से खेत में नमी लंबे समय तक बनी रहती है.

दीमक से ग्रसित भूमि को फसल की सुरक्षा के लिए क्विनालफास 1.5 फीसदी चूर्ण 25 किलोग्राम प्रति एकड़ के हिसाब से अंतिम जुताई से पहले खेत में बिखेर दें और उस के बाद जुताई कर उसे मिट्टी में मिला दें.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT