पानी की जरूरत से ज्यादा अहमियत की वजह से ही इसे अमृत और जीवन का आधार माना जाता है. रोटीचावल वगैरह चीजें मुहैया कराने वाली खेती भी पानी पर टिकी होती है और पानी की किल्लत जगजाहिर है. मौजूदा हालात में बरसात का पानी बचा कर ही खेती का भला हो सकता है.

Tags:
COMMENT