हमारे यहां जुलाई का महीना खेती के नजरिए से किसानों के लिए खास होता है, क्योंकि इस महीने तक देश के ज्यादातर हिस्सों में मानसून आ चुका होता है, जिस से इस दौरान खरीफ सीजन में ली जाने वाली फसलों की बोआई और रोपाई का काम शुरू हो जाता हैं. जुलाई महीने में खेती के नजरिए से खरीफ की सब से अहम खेती धान की होती है. जो किसान धान की नर्सरी समय से डाल चुके होते हैं, वे धान की रोपाई जुलाई महीने के पहले हफ्ते से शुरू कर सकते हैं.

देर से नर्सरी डालने वाले किसान नर्सरी में पौधों के 20 से 30 दिन के हो जाने पर ही रोपाई करें. धान की जल्दी पकने वाली प्रजातियों की रोपाई जुलाई महीने के दूसरे पखवारे तक की जा सकती है. जिन किसानों ने काला नमक धान, बासमती जैसी सुगंधित प्रजातियों की नर्सरी डाली है, वे रोपाई का काम इस महीने के आखिरी हफ्ते तक कर लें. धान के पौधों की रोपाई के समय यह ध्यान रखें कि कतार से कतार की दूरी 20 सैंटीमीटर रखी जाए और एक जगह पर एकसाथ 2 से 3 पौधे लगाए जाएं. जिन किसानों ने ढैंचा की फसल बो रखी है, वे रोपाई के 3 दिन पहले ही उसे मिट्टी पलटने वाले हल से पलट कर सड़ने के लिए खेत में पानी भर दें. खेत में उर्वरक का प्रयोग मिट्टी की जांच के आधार पर ही करें.

ये भी पढ़ें- विनाश की ओर चिरौंजी, संरक्षण और संवर्घन जरूरी

जिन किसानों ने अपने खेत में मिट्टी की जांच नहीं कराई है, वे अधिक उपज वाली फसलों में रोपाई के पहले प्रति हेक्टेयर की दर से 60 किलोग्राम नाइट्रोजन के साथसाथ 60 किलोग्राम फास्फेट और 60 किलोग्राम पोटाश को लेव लगाते समय खेत में मिला दें. धान की रोपाई से पहले 25 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से जिंक सल्फेट खेत में जरूर मिलाएं. लेकिन यह जरूर ध्यान रखें कि फास्फोरस वाले उर्वरक के साथ जिंक सल्फेट कभी न मिलाएं. जब भी खेत में दानेदार रसायनों का प्रयोग करें, तो उस के पहले यह तय कर लें कि खेत में 2 से 3 सैंटीमीटर पानी जरूर भरा हो. अगर किसान धान की फसल में नैनो यूरिया का प्रयोग करते हैं, तो उर्वरकों पर लागत में काफी कमी लाई जा सकती है. किसान को अगर खेत में खैरा रोग का प्रकोप दिखाई पड़े, तो प्रति हेक्टेयर 20 से 25 किलोग्राम जिंक सल्फेट व ढाई किलोग्राम चूना को 800 लिटर पानी में मिला कर घोल बना लें और इस घोल को रोगग्रस्त फसल पर छिड़कें.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT