झालावाड़ जिले के संतरा उत्पादकों पर पिछले दिनों मौसम की मार और अब लॉकडाउन के कारण उन को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है. अब भी 50 प्रतिशत संतरे बगीचे में पौधों पर लदे हुए हैं.

किसानों की बढ़ती चिंता
झालावाड़ को संतरा उत्पादन के क्षेत्र में छोटा नागपुर कहा जाता है. झालावाड़ के सुनेल क्षेत्र में पिछले दिनों हुई बारिश और आंधी के कारण संतरे के बगीचों की हालत बहुत खराब हो गई है. संतरे के पौधों के टूटने और संतरे जमीन में गिरने से किसानों की चिंता बढ़ गई है. किसानों का कहना है कि उन्हें काफी मात्रा में नुकसान हुआ है.भारतीय किसान संघ के पदाधिकारियों ने शीघ्र यहां का सर्वे कराकर क्षेत्र के किसानों को उचित मुआवजा दिलवाने की मांग की है. किसानों को अभी तक अतिवृष्टि से खरीफ फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत नहीं मिल पाया है इसलिए क्षेत्र के किसानों को आर्थिक रूप से काफी हद तक परेशानी हो रही है.

Tags:
COMMENT