लेखिका-रितु वर्मा

आजकल के डिजिटल युग में हम सब अपने डिजिटल बुलबुलों में ऐसे कैद हैं कि कब रिश्ते हमारे हाथों से फिसल जाते हैं, पता ही नहीं चलता. हम बस, अपनी बात बताना चाहते हैं, अपने विचार दूसरों के समक्ष रखना चाहते हैं चाहे माध्यम फेसबुक हो या ट्विटर. कोई भी डिजिटल माध्यम ऐसा नही है जहां पर सुनने का भी प्रावधान हो.

Tags:
COMMENT