आजकल हमारे शासक संविधान के दिए गए अधिकारों की बात करते हुए उत्तरदायित्व और कर्त्तव्यों की बात भी करने लगते हैं. 1945 से 1950 के बीच जो संविधान तैयार किया गया वह इस आधार पर किया गया कि देश के शासक नेता वे ही लोग होंगे जो देश की जनता की सेवा करने के लिए चुनावी राजनीति से चुने जाएंगे पर हुआ कुछ और ही.

संविधान के बनने के तुरंत बाद उन्हीं लोगों, जिन में संविधान में अधिकार दिए थे, को कुरसियां मिलने पर जनता को मिले वे अधिकार अखरने लगे.

संविधान में बारबार संशोधन किए गए और हर संशोधन में कोई न कोई अधिकार छीना गया लेकिन फिर भी अभी भी इतने अधिकार आमजन के पास हैं कि देश के गृहमंत्री अमित शाह जैसे को भी याद दिलाना पड़ रहा है कि संवैधानिक अधिकारों के साथ संवैधानिक कर्तव्य भी पूरे संविधान और संविधान के अंतर्गत बने कानूनों में बिखरे हैं.

उन्होंने अपने भाषण में शासकों के कर्तव्यों की बात नहीं की, शासकों की जवाबदेही की बात नहीं की. यही नहीं, गलत निर्णय लेने पर शासकों को दंड मिलने की बात भी उन्होंने नहीं की क्योंकि 1947 के बाद से ही संवैधानिक अधिकार छीनने की जो आदत पड़ी है वही नरेंद्र मोदी की मौजूदा सरकार भी कर रही है.

जनता को जो संवैधानिक अधिकार दिए गए हैं, वे उस को सरकार से कुछ दिलाते नहीं हैं, वे सरकार को जनता के प्रति कुछ बुरा करने से रोकते मात्र हैं.

संविधान के तहत जनता के पास न रोजीरोटी, न चिकित्सा, न शिक्षा, न मनोरंजन, न सम्मान का जीवन, न साफ शहरों में रहने, न अपराधरहित जीवन जीने का हक है. संविधान तो सिर्फ सरकार को जनता से ये सब चीजें, जो जनता खुद जुटा रही है, छीनने से रोकता है वह भी आधाअधूरा. हर संवैधानिक अधिकार को पाने के लिए नागरिक को वर्षों सड़कों पर, विधानमंडलों में, अदालतों में, अखबारों में, टीवी में, लड़ाई लड़नी पड़ती है.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...