इस देश की पुलिस पूरी तरह से कोरोना से लडऩे को तैयार है. जैसे वह हर आपदा में तैयार रहती है. हर आपदा में पुलिस का पहला काम होता है कि निहत्थे, बेगुनाहों, बेचारों और गरीबों को कैसे मारापीटा जाए. चाहे नोटबंदी हो, चाहे जीएसटी हो, चाहे नागरिक कानून हो, हमारी पुलिस ने हमेशा सरकार का पूरा साथ देकर बेगुनाह गरीबों पर जी भर के डंडे बरसाए हैं. किसान आंदोलन में भी लोगों ने देखा और उस से पहले लौकडाउन के समय सैंकड़ों मील पैदल चल रहे गरीब मजदूरों की पिटाई भी देखी. किसी भी बात पर पुलिस सरकार की हठधर्मी के लिए उस के साथ खड़ी होती है और जरूरत से ज्यादा बल दिखाने का कोई मौका नहीं छोड़ती.

Tags:
COMMENT