विधानसभा चुनाव के बाद बिहार में एक बार फिर भाजपा समर्थित सरकार का बनना आश्चर्य की बात नहीं है क्योंकि भारत में धर्मजनित राजनीति अब गहरे तक अपनी जड़ें मजबूत कर चुकी है. हिंदू धर्म की पौराणिक नीतियां ही सर्वश्रेष्ठ हैं और समाज उन्हीं के अनुसार चलेगा, यह खुल्लमखुल्ला कहने वाली भारतीय जनता पार्टी का असर हर घर तक है और बिहार इस का अपवाद कैसे हो सकता है? अगर कहींकहीं दूसरी पार्टियां जीत रही हैं तो वह इसलिए नहीं कि उन्हें इन नीतियों से कोई बैर है बल्कि इसलिए कि इसी मिक्सचर में वहां कुछ और सिरफिरी बात डाली गई है या इस को बेचने वाले की छवि भाजपा के नरेंद्र मोदी से अलग है.

Tags:
COMMENT