अपने लुक को बदलने में बाल महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. ये सौंदर्य तो बढ़ाते ही हैं, साथ ही व्यक्तित्व को भी आकर्षक बनाते हैं. दिल्ली प्रैस भवन में आयोजित फैब मीटिंग के दौरान मैट्रिक्स की तकनीकी विभाग की इंद्रजीत ने बालों को कैसे सुरक्षित रखें और उन की सुंदरता कैसे बढ़ाई जाए, इस बाबत तो जानकारी दी ही, साथ ही रिबौंडिंग और स्मूदनिंग के तरीकों से भी अवगत कराया.

रिबौंडिंग

सब से पहले बालों की क्वालिटी के बारे में जानकारी होनी चाहिए यानी बाल मोटे, पतले, मीडियम, रफ या फिर डैमेज हैं, क्योंकि जो स्ट्रेट थेरैपी क्रीम इस्तेमाल की जाती है वह बालों की क्वालिटी पर निर्भर करती है. यह जान लेने के बाद बालों में अच्छी तरह शैंपू करें और फिर ड्रायर से सुखा लें. जब बाल सूख जाएं तो आयरनिंग करें. इस के बाद स्ट्रेट थेरैपी क्रीम सैक्शन बाई सैक्शन ऊपरी बालों की लटों से ले कर नीचे की लटों तक लगाएं. 15 से 20 मिनट बाद एक बाल को खींच कर देखें. यदि बाल स्प्रिंग की तरह घूम रहा हो तो समझ लें कि सल्फर बन्स टूट गए और अगर ऐसा नहीं हुआ तो 5-10 मिनट रुकें. इस के बाद बालों को अच्छी तरह धो लें और मीडियम हीट पर ड्रायर कर लेयर बाई लेयर आयरनिंग करें. इस के तुरंत बाद न्यूट्रलाइजर सैक्शन बाई सैक्शन उसी प्रकार करें जिस प्रकार स्ट्रेट थेरैपीक्रीम अप्लाई की गई थी. इस दौरान बिलकुल भी न हिलें. 15-20 मिनट बाद बालों को अच्छी तरह धो लें. ठंडा ड्रायर करें. बाल सूख जाएं तो सीरम लगाएं और फिर मास्क.

स्मूदनिंग

पहले बालों को अच्छी तरह शैंपू से धो कर क्रीम अप्लाई करें. जब क्रीम सूख जाए तो बालों को धोए बिना ड्रायर करें. इस के बाद प्रैसिंग करें. इस के 3 दिन बाद अपनी हेयरड्रैसर की सलाह से सिर धो कर ड्रायर करें. अंत में सीरम लगा लें.

ध्यान रहे कि ऐक्चुअल स्मूदनिंग में आयरनिंग नहीं होती है. केवल बालों का टैक्सचर इंपू्रव होता है वैव 50-60% बना रहता है. कुछ लड़कियां स्मूदनिंग करवाती हैं. वे चाहती हैं कि बाल सीधे रहें, तो इस के लिए एक बार आयरनिंग करनी पड़ती है.

सावधानियां

रिबौंडिंग या स्मूदनिंग में इन बातों का ध्यान रखना जरूरी होता है:

– स्कूटी न चलाएं.

– बाइक के पीछे न बैठें.

– बालों को दबाएं या मोड़ें नहीं.

– जूड़ा न बनाएं.

– रबड़बैंड न लगाएं.

– मसाज न करें.

– बालों को टाइट न बांधें.

– बालों को धोने के बाद रगड़ें नहीं.

– कलर न करवाएं. अगर करवाना ही हो तो कम से कम 20 दिन बाद करवाएं.

प्राकृतिक तरीके से कैसे करें देखभाल

– खानेपीने का ध्यान रखें.

– प्रोटीनयुक्त चीजों का सेवन करें.

– पानी अधिक पीएं.

– हरी सब्जियां और मौसमी फल ज्यादा से ज्यादा खाएं.

– बालों में हफ्ते में 3 बार तेल लगाएं.

– बालों को धोने के बाद रगड़ें या झाड़ें नहीं.

– टैंशन से बचें.

– स्टीम करें (गरम पानी में तौलिया भिगो कर सिर में लपेट लें).

– बालों को हमेशा साफ रखें.

Tags:
COMMENT