समाज में फैले अंधविश्वास और मुसलिम कट्टरता की कङी आलोचना कर इसलामिक कट्टरपंथियों द्वारा जारी फतवों और निर्वासन झेल रहीं बंग्लादेश की लेखिका तसलीमा नसरीन एक बार फिर से चर्चा में हैं. हाल ही में उन की लिखी 2 बहुचर्चित किताबें 'माई गर्लहुड' और 'लज्जा' का अगला भाग 'शेमलेस' 14 अप्रैल को रिलीज होनी थी लेकिन लौकडाउन की वजह से रिलीज नहीं हो पाई. इस के तुरंत बाद एक मीडिया हाऊस को दिए इंटरव्यू के बाद तसलीमा फिर से विवादों में आ गई हैं.

Digital Plans
Print + Digital Plans
Tags:
COMMENT