बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती दलित समाज के मुद्दों से भटक रही हैं. चाहे नागरिकता कानून का मुद्दा हो या कोरोना वायरस की त्रासदी से जूझ रहे गरीब, मजदूर और समाज के उपेक्षित वर्ग की बात हो मायावती पूरी तरीके से खामोश है. वह सरकार के हर कदम का स्वागत करते हुए अपनी जिम्मेदारी पूरी कर ले रही हैं . मायावती का कामकाज केवल राजनीतिक बयान बाजी तक ही सीमित रह गया.

Tags:
COMMENT