मैं 10 सालों से घर से बाहर हूं, 21वीं सदी में होश संभालने वाली जनरेशन ने शायद की ऐसा कोई दौर देखा हो. लॉकडाउन, जिससे हम सब गुजर रहे हैं. कभी पढ़ाई तो कभी नौकरी लिए मैं कई राज्यों में गई. मैं सेल्प डिपेंडेट और स्ट्रांग लड़की हूं, छोटी-छोटी बातों से घबराना मेरी आदत नहीं. जिंदगी में कई मुश्किलें आईं, जिनका मैनें मजबूती से सामना किया है. शाम के समय मैं न्यूज देख रही थी जब लॉकडाउन की घोषणा हुई. कुछ देर के लिए समझ नहीं आया कि क्या करना है.

Tags:
COMMENT