धर्म का दुरुपयोग रोजरोज और तरहतरह से हो रहा है जिस में धर्मगुरुओं के साथ राजनेताओं का बड़ा हाथ है. इन के डर से भगवान भी अवतरित नहीं हो पा रहा, इसलिए भक्तों ने इन्हें पार्टटाइम भगवान मानते खुद को तसल्ली दे रखी है और दानदक्षिणा में बदस्तूर जुटे हुए हैं.

COMMENT