खांसी से खासा परेशान रहे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अब बेंगलुरु में गले की सर्जरी करवा कर आराम कर रहे हैं यानी बीमारी गंभीर है जिस का इलाज वे दिल्ली से दूर इसलिए भी करा रहे हैं कि वहां गुलदस्ता ले कर अस्पताल आने वाले कथित शुभचिंतकों की भीड़ नहीं होगी और पार्टी में अफरातफरी भी नहीं मचेगी. इस के अलावा वे वहां सुकुन से सोच भी पाएंगे कि इश्क और मुश्क जैसे शाश्वत विकार किस पद्धति से छिपाए जा सकते हैं. हां, उन्होंने सिद्ध कर दिया कि नैचुरोपैथी और विपश्यना बेकार की बातें हैं. उन से उन की खांसी नहीं छूटी है.

COMMENT