आज देशभर में टीचर्स डे मनाया जा रहा है और बौलीवुड फिल्‍मों में दिखाये जाने वाले रिश्‍तों में ‘टीचर और स्‍टूडेंट्स’ का कनेक्‍शन काफी खास रहा है. अब चाहे वायलेन बजाता टीचर ‘राज’ हो, अपने स्‍टूडेंट्स को पढ़ाने के लिए किसी भी हद तक जाता ‘प्रभाकर आनंद’ हो, अपने स्‍टूडेंट्स की प्रतीभा को निखारकर उनके मां- बाप के सामने उनकी खूबियो को लाने वाले तारे जमीं पर,  के ‘आमिर खान’ हों या फिर ‘थ्री इडियट’ फिल्म में इंजिनियरिंग का पाठ पढाते ‘बोमन इरानी’ हों.

फैशन का स्‍टाइल हो या फिर अपने स्‍टूडेंट्स के साथ स्‍पेशल कनेक्‍शन का सीन सभी ने अपना एक अलग अंदाज दिखाया. फिल्‍मों के इन टीचर्स ने सभी का दिल जीत लिया. ‘टीचर स्‍टूडेंट्स कनेक्‍शन’ के इस दौड़ में हीरो ही नहीं बल्की हसीनाओं ने भी अपने जल्वे बिखेरें हैं फिर चाहें वह ‘मैं हूं न’ की ‘सुष्मिता सेन’ हो या फिर बोल्डनेस का तड़का लगाने वाली ‘डर्टी पिक्चर’ की ‘विद्या बालन’ हो. इन सभी ने रोमांस का पाठ पढ़ाने के साथ ही फैशन की सीख भी दी. बौलीवुड फिल्‍मों ने टीचर्स के कई चेहरों को सामने रखा. आज हम बौलीवुड की कुछ ऐसी ही फिल्मों और सितारों की बात करेंगे जिन्‍होंने हमें हमेशा याद रहने वाले शानदार टीचर दिए हैं.

मोहब्‍बतें (2000)

इस फिल्‍म में अमिताभ बच्‍चन ने गुरुकुल के बेहद ही अनुशासन बनाए रखनें वाले टीचर के किरदार को निभाया है, फिल्म में उनका नाम नारायण शंकर है. गुरुकुल के अनुशासन भरे माहौल में जब राज आर्यन यानी शाहरूख खान ने वायलेन टीचर के रूप में एंर्टी लिया तो उन्होने कालेज की फिजाओं में प्‍यार का रंग भी घोल दिया.

मैं हूं न (2004)

शाहरुख खान स्टारर फिल्म मैं हूं न में सुष्मिता ने टीचर का किरदार निभाया था. वह कैमिस्ट्री की टीचर बनी थी. इसमें सुष्मिता द्वारा पहनी गई साड़ी तो उस वक्त फैशन स्टेटमेंट बन गई थी. कैमिस्ट्री की टीचर के किरदार में सुष्मिता इतनी ग्लैमरस लगी कि उनकी खूबसूरती पर शाहरुख सहित सभी दर्शक कायल हो गए. ये फिल्म उनके करियर की बेस्ट फिल्म साबित हुई.

फालतू (2006)

रेमो डिसूजा के निर्देशन में बनी यह पहली फिल्‍म कालेज के बैक बैंचर्स के छिपे हुए टैलेंट को सामने लाने वाली फिल्‍म थी. इस कामेडी फिल्‍म में जैकी भगनानी, पूजा गुप्‍ता, चंदन राय जैसे कलाकार नजर आए थे. इस फिल्‍म में अरशद वारसी और रितेश देशमुख टीचर बने नजर आए. हालांकि यह फिल्‍म बाक्‍स आफिस पर ज्‍यादा कमाल न दिखा सकी.

कभी अलविदा न कहना (2006)

इस फिल्म में  रानी मुखर्जी ने एक प्राइमरी टीचर का किरदार निभाया था. हालांकि, फिल्म में वे क्लासरूम से कहीं ज्यादा वक्त शाहरुख खान के साथ बिताती दिखीं, लेकिन दर्शकों ने उनके इस फैशन स्टेटमेंट को नोटिस ही नहीं बल्कि फौलो भी किया.

तारे जमीन पर (2007)

लगातार बदलते सिलेबस और स्‍कूलों में बच्‍चों पर बढ़ते पढ़ाई के प्रेशर ने नन्‍हें-मुन्‍नों के लिए काफी परेशानियां खड़ी की हैं. ऐसे में कई बार पेरंट्स हर बच्‍चे को इस दौड़ का हिस्‍सा बनाने की कोशिश करते हैं. इसी गंभीर विषय पर आमिर खान फिल्‍म ‘तारे जमीन पर’ लेकर आए. यह उनकी पहली निर्देशित फिल्म थी. इस फिल्‍म में डिस्‍लेक्सिया से जूझ रहे बच्‍चों को पढ़ाने के तरीके और उन्‍हें ट्रीट करने के सही तरीकों को दिखाया गया.

पाठशाला (2009)

इस फिल्‍म में शाहिद कपूर पहली बार टीचर बने नजर आए थे. म्‍यूजिक टीचर बने शाहिद कपूर और स्‍कूल के प्रिंसिपल बने नाना पाटेकर के किरदारों को काफी पसंद किया गया था.

आरक्षण (2011) 

निर्देशक प्रकाश झा की ‘आरक्षण’, टीचर और स्‍टूडेंट्स के बीच के रिश्‍तों पर बनी फिल्‍मों में से एक है. इस फिल्‍म में भी अमिताभ बच्‍चन एक स्‍कूल के प्रिंसिपल के किरदार में थे, जो आगे चलकर एक समाज सेवक बन जाते हैं. ‘प्रभाकर आनंद के किरदार में अमिताभ ने सिस्‍टम से जूझते हुए काफी अहम और सकारात्‍मक बदलाव दिखाए.

द डर्टी पिक्चर (2011)

फिल्म में बोल्डनेस का तड़का लगाने वाली विद्या, ऊ लाला ऊ लाला… गाने में एक सेक्सी टीचर के तौर पर नजर आईं थी.

स्‍टूडेंट आफ द ईयर (2012)

करण जौहर की यह फिल्‍म पूरी तरह स्‍कूल लाइफ और स्‍टूडेंट्स के बीच होने वाले काम्‍पिटीशन पर आधारित थी. इस फिल्‍म से आलिया भट्ट, वरुण धवन और सिद्धार्थ मल्‍होत्रा ने बालीवुड में अपने करियर की शुरुआत की थी.

देसी ब्वायज

फिल्म ‘देसी ब्वायज’ में एक्ट्रेस चित्रांगदा सिंह की एंट्री को भूल पाना मुश्किल है. इस फिल्म में चित्रांगदा का किरदार इतना ग्लैमरस था कि क्लासरूम में बैठे सभी स्टूडेंट्स पढ़ाई को छोड़कर केवल उनपर ही फोकस करते थे. फिल्म में उन्होंने एक सुपर हाट मैक्रो इकोनोमिक्स प्रोफेसर का किरदार निभाया. ऐसे में अक्षय कुमार भी उनकी अदाओं के दीवाने हो गए. रील लाइफ की तरह रियल लाइफ में भी हमारे स्कूल या कालेज में एक न एक ऐसी टीचर जरूर होती हैं, जिनकी क्लास में स्टूडेंट्स (खासकर लड़कों) की अटेंडेंस फुल होती है.

Tags:
COMMENT