हौलीवुड में फिल्मों का निर्माण स्टूडियो सिस्टम के तहत ही हो रहा है. वहां ‘डिजनी स्टूडियो’, ‘बीबीसी 4 स्टूडियो’, ‘फौक्स स्टार स्टूडियो’ काफी सक्रिय हैं. हौलीवुड सिनेमा ने तो पूरे यूरोप पर कब्जा करके यूरोपीय देशों के सिनेमा का अंत कर दिया है. पिछले कुछ वर्षों से भारत में कुछ कारपोरेट कंपनियां सिनेमा से जुड़कर स्टूडियो की तरह फिल्में बनाती आ रही हैं. मगर बौलीवुड के कलाकारों की अपनी दादागीरी, कारपोरेट कंपनियां द्वारा अपनी बैलेंस सीट पर ध्यान देने, कंपनी के शेयर के भाव कैसे बढ़े इस पर ध्यान देने, फिल्मों के निर्माण का निर्णय करने का दायित्व सिनेमा को समझने वाले को देने की बनिस्बत एमबीए करके आने वाले रंगरूटों को दिए जाने के कारण भारत में कारपोरेट या स्टूडियो के तहत बनी फिल्में सुपर फ्लाप हो रही हैं.

Tags:
COMMENT