नारी सशक्तिकरण के नाम पर देश में केंद्र और राज्य सरकारों की कई योजनाएं लागू हैं. इसके बावजूद पूरे देश में लड़कियों के मामले में सबसे पिछड़ा राज्य हरियाणा ही माना जाता है. 2011 की जनगणना के आंकड़ों के अनुसार हरियाणा में हजार लड़कों के बीच सिर्फ 762 लड़कियां थी. लेकिन पिछले पांच वर्ष के अंदर ‘‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’’ तथा ‘‘लाड़ली’’ योजना लागू होने के बाद 2018 के आंकड़ों के अनुसार अभी भी हरियाणा में हजार लड़कों के बीच महज 834 लड़कियां हैं.

Digital Plans
Print + Digital Plans
Tags:
COMMENT