सिनेमा में आ रहे बदलाव के चलते अब बौलीवुड में कई नए फिल्मकार तेजी से आ रहे हैं, जिन्होंने जमीन से जुड़ी और सामाजिक सरोकार वाली कहानियां अपनी फिल्मों के माध्यम से पेश करने का बीड़ा उठा लिया है. ऐसे ही एक फिल्मकार हैं सुरेश शर्मा. मूलतः रोहतक (हरियाणा) में जन्मे वे पले बढ़े तथा 35 वर्ष (कुछ साल दिल्ली और कुछ साल छत्तीसगढ़़ राज्य के रायपुर शहर में) तक एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी में नौकरी करने के बाद फिल्म निर्माण के क्षेत्र में कूदे हैं. पहले ‘वेदना’नामक डाक्यूमेंटरी बनायी और अब किन्नरों की व्यथा व दर्द को व्यक्त करने वाली एक मानवीय फिल्म ‘हंसा-एक संयोग’ लेकर आ रहे हैं, जो कि 31 मई को देश के सिनेमाघरों में प्रदर्शित होने जा रही है. सुरेश शर्मा ने ‘‘चित्रागृही फिल्मस” के बैनर तले फिल्म ‘‘हंसा-एक संयोग” का निर्माण करने के साथ साथ इसमें एक अहम किरदार भी निभाया है.

Tags:
COMMENT