जब जब बौलीवुड में भाई भतीजे व रिश्तेदारों को चमकाने के लिए फिल्में बनी हैं, उन फिल्मों का बंटाधार ही हुआ है. सलमान खान के बहनोई आयुष शर्मा को फिल्म ‘‘लव यात्री’’ में बतौर हीरो पेश किया गया, मगर अफसोस की बात यह रही कि दो घंटे उन्नीस मिनट की अवधि में आयुष एक भी दृश्य में खुद को अभिनेता साबित नहीं कर पाए. वह दर्शकों की सहानुभूति बटोरने में पूर्णरूपेण असफल रहे हैं. पूरी फिल्म सिरदर्द ही है.

COMMENT