बौलीवुड  में ‘‘आंख से ओझल दिमाग से ओझल’’ वाली कहावत आम है. इसी के चलते हर कलाकार की कोशिश रहती है कि वह सदैव लोगों की नजरों में बना रहे. ऐसे में दो वर्ष तक खुद को बौलीवुड से दूर रखना बहुत बड़ा जोखिम होता है. दो वर्ष तक दूर रहते ही लोग कलाकार को भूल जाते हैं, परिणामतः कलाकार का करियर खत्म सा हो जाता है. इसके बावजूद अभिषेक बच्चन ने जोखिम उठाया ओर खुद को दो वर्ष तक अभिनय से दूर रखकर अपने आपको नए सिरे से काम करने के लिए तैयार करते रहे. अब वह दो वर्ष बाद 14 सितंबर को प्रदर्शित हो रही फिल्म ‘‘मनमर्जियां’’ से पुनः बौलीवुड में कदम रख रहे हैं.

COMMENT