इन दिनों फिल्मकार राम कमल मुखर्जी के पैर जमीं पर नहीं पड़ रहे हैं. इसकी मूल वजह यह है कि उनकी फिल्म ‘‘एक ट्रिब्यूट टू रितुपर्णो घोष सीजंस ग्रीटिंग्स’’  पहली भारतीय फीचर फिल्म बन गयी है, जिसके साथ संयुक्त राष्ट्र ने स्वतंत्रता और समानता के तहत हाथ मिलाया. लेखक व निर्देशक राम कमल मुखर्जी की यह दूसरी फिल्म है. इससे पहले इस साल की शुरुआत में ईशा देओल अभिनीत लघु फिल्म केकवाक के निर्देशन से अपनी शुरुआत की थी.

फिल्म ‘‘सीजन्स ग्रीटिंग’’ से बौलीवुड अभिनेत्री सेलिना जेटली हाग की शादी और मातृत्व के बाद वापसी कर रही हैं. इस फिल्म में नवोदित कलाकार अजहर खान भी हैं. अनुभवी थिएटर और फिल्म स्टार लिलेट दुबे ने सेलिना की औन- स्क्रीन मां की भूमिका निभायी हैं. जबकि यह फिल्म बौलीवुड में एक ट्रांसजेंडर अभिनेता श्री घटक की पहली फिल्म है.

ये भी पढ़ें- टीजर आने के साथ ‘‘लाल कप्तान’’ ने रचा इतिहास

फिल्म ‘‘सीजंस ग्रीटिंग्स’’ की कहानी मां सुचित्रा (लिलेट दुबे) और बेटी रोमिता (सेलिना जेटली) के रिश्ते से संबंधित है. जब अपने ब्वायफ्रेंड उस्मान (अजहर खान) के साथ मुंबई में ‘लिव इन रिलेशनशिप’ रह रही रोमिता (सेलिना जेटली) अपने ब्वायफ्रेंड उस्मान को अपनी मां सुचित्रा से मिलवाने कलकत्ता पहुंचती है, तो रात्रिभोज के वक्त कहानी में अप्रत्याशित मोड़ आ जाता है. रितुपर्णो घोष की हर फिल्म की तरह, फिल्म ‘सीजंस ग्रीटिंग्स’ एक मानवीय भावनाओं के साथ विभिन्न भावों में व्यवहार करती है.’’

कोलकाता में सुंदर स्थानों पर फिल्मायी गयी इस फिल्म को संयुक्त राष्ट्र के सामने स्कैनिंग की परतों से गुजरना पड़ा और जिनेवा से उनकी टीम ने आधिकारिक तौर पर सामाजिक कारणों से सहयोगी बनने का फैसला लिया.संयुक्त राष्ट्र के आधिकारिक बयान में कहा गया है- ‘‘हमें निर्देशक राम कमल मुखर्जी की भारतीय फीचर फिल्म ए ट्रिब्यूट टू रितुपर्णो घोषः सीजंस ग्रीटिंग्स’  को ‘युनाइटेड नेशन के फ्री एंड इक्वल- ग्लोबल’’ के लिए समर्थन करते हुए खुशी हो रही है. यह दुनिया भर में मौजूद ‘एलजीबीटीक्यूाआईए’ के लोगों के लिए समानता का अभियान है. हम अनुभव से जानते हैं कि इस तरह की फिल्में उन वार्तालापों को शुरू करने और बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती हैं.हम समानता के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए राम कमल और उनकी टीम के साथ काम करने को तत्पर हैं. भारत में एलजीबीटी कम्यूनिटी के लोगों को जिस तरह से जिंदगी जीने के लिए समान सेक्स संबंधों की स्वीकृति मिली है, उससे संबंधित कुछ मुद्दों पर यह फिल्म बात करती है.’’

‘युनाइटेड नेशन’ से मिले इस सहयोग के संदर्भ में फिल्म ‘‘सीजन्स ग्रीटिंग्स’’ के निर्देशक राम कमल मुखर्जी कहते हैं- ‘‘यह अप्रत्याशित और सुखद आश्चर्य है. जब सेलिना जेटली ने सुझाव दिया कि हमें फिल्म को यूएन को दिखाना चाहिए, तो मैं थोड़ा घबरा गया था कि यह एक भारतीय फिल्म है और वह इसे तवज्जों नही देंगे. लेकिन उन्होंने मुझे गलत साबित कर दिया. मैं फिल्म पर उनकी विस्तृत प्रतिक्रिया से अभिभूत था. मुझे यकीन है कि रितु दा आज सबसे ज्यादा खुश होंगे.’’

फिल्म में सुचित्रा का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री लिलेट दुबे कहती हैं- ‘‘मुझे राम कमल की फिल्म ‘सीजंस की ग्रीटिंग्स’ का हिस्सा बनने की खुशी है, जो जल्द ही जी5 पर प्रीमियर होगी. मैं हमेशा रितुपर्णो घोष के साथ काम करना चाहती थी. दुर्भाग्य से उन्होंने इस संसार से बहुत जल्दी विदा ले ली. मैं इस फिल्म का हिस्सा बनकर खुश हूं. ऐसे अद्भुत फिल्म निर्माता को श्रद्धांजलि.’’

फिल्म में रोमिता का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री सेलिना जेटली ने कहा है- ‘‘मुझे इस बात का बेहद गर्व है कि संयुक्त राष्ट्र ने फिल्म के लिए उनके फ्री एंड इक्वल अभियान के तहत सामाजिक कारण भागीदार बनने पर सहमति व्यक्त की है. फिल्म पूरी स्क्रीनिंग प्रक्रिया से गुजरते हुए पारित हुई है. सभी ने महसूस किया कि हमें विश्व स्तर पर इस कहानी के बारे में बात करने की आवश्यकता है. फिल्म का प्रदर्शन उस वक्त हो रहा है जब भारत के सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिक, गे और ट्रांस जेंडर आबादी के लिए ऐतिहासिक फैसला देकर औपनिवेशिक युग से चले आ रहे प्रतिबंध को खत्म कर  समान-यौन संबंध और ट्रांसजेंडर लोगों के अधिकारों की पुष्टि की है. यह फिल्म समान परिस्थितियों में भावनात्मक संदेश के साथ दुनिया भर के लोगों तक पहुंचकर एक वैश्विक राग छेड़ेगी.’’

सेलिना ने आगे कहा, ‘‘यह फिल्म मेरे लिए कई मायनों में खास है. इसके निर्देशक राम कमल मुखर्जी मेरे मित्र हैं, जिनके साथ यह मेरी पहली फिल्म है. जिसे मैंने अपने गृह नगर कलकत्ता में फिल्माया है. मुझे खुशी है कि लिलेट दुबे जैसी दिग्गज अदाकारा के साथ काम करने का अवसर मिला.’’

ये भी पढ़ें- फिल्म समीक्षाः ‘नेटवर्क’

सेलिना का मानना है कि लंबे समय से चले आ रहे लोगों के रवैए को बदलना आसान नही है, मगर बातचीत करते करते ऐसा हो जाएगा.

फिल्म का निर्माण अरिजित दास और शैलेंद्र कुमार द्वारा क्रमशः मोशन पिक्चर्स और एसएस 1 एंटरटेनमेंट के बैनर तले किया गया है. फिल्म को दुनिया भर के विभिन्न अंतरराष्ट्रीय समारोहों में प्रदर्शन के लिए चुना गया है. फिल्म का प्रीमियर नवंबर में औस्ट्रेलिया के सिडनी में चेंजिंग फेस इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में किया जाएगा. जबकि नवंबर माह में यह फिल्म ओटीटो प्लेटफार्म ‘‘जी 5’’ पर आएगी.

Tags:
COMMENT