सरिता विशेष

अफगानिस्तान क्रिकेट टीम टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करने के लिए पूरी तरह से तैयार है. अफगानिस्तान की टीम अपना पहला टेस्ट मैच भारत के खिलाफ खेलेगी. खबरे हैं कि दोनों टीमों के बीच पहला टेस्ट मैच बेंगलुरू में हो सकता है. बीसीसीआई और अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड आज 16 जनवरी को यहां बैठक के बाद संयुक्त बयान जारी कर सकते हैं.

भारत और अफगानिस्तान के बीच यह ऐतिहासिक मैच इस साल जून में खेले जाने की संभावना है. बीसीसीआई ने पिछले महीने घोषणा की थी कि वह अफगानिस्तान के पदार्पण टेस्ट मैच की मेजबानी करेगा.

पिछले साल मिला टेस्ट टीम का दर्जा

अफगानिस्तान ने पिछले साल जून में आयरलैंड के साथ टेस्ट दर्जा हासिल किया था. इन दोनों के क्रिकेट बोर्ड इसके साथ ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के पूर्णकालिक सदस्य भी बने. अफगानिस्तान ने अच्छा प्रदर्शन किया है और उसके मुख्य लेग स्पिनर राशिद खान ने टी-20 फ्रेंचाइजी लीग जैसे आईपीएल में शानदार खेल दिखाया.

आईसीसी रैंकिंग में भी अफगानिस्तान की टीम ने टौप के 10 टीमों में शामिल है. टी-20 में अफगानिस्तान की टीम 9वें नंबर पर हैं जबकि वनडे में 11वें स्थान पर कायम है.

बता दें कि अफगानिस्तान अपने सभी घरेलू मैच नोएडा के शहीद विजय सिंह पथिक स्पोर्ट्स कौम्पलेक्स में खेलता है. इस लिहाज से परिस्थितियों के हिसाब से अफगानिस्तान की टीम के लिए भारत में खेलने में कोई मुश्किल नहीं होनी चाहिए.

फिल सिमंस बने अफगानिस्तान के मुख्य कोच

वेस्टइंडीज के फिल सिमंस अफगानिस्तान क्रिकेट टीम के मुख्य कोच हैं. सिमंस के मार्गदर्शन में टीम फरवरी में शारजाह में जिम्बाब्वे के खिलाफ होने वाली सीरीज में हिस्सा लेगी. सिमंस इस सीरीज से पहले टीम के साथ काम करना शुरू कर देंगे. सिमंस का करार 2019 विश्व कप तक का है.

वेबसाइट-क्रिकइंफो ने एसीबी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी शाफिक स्टानिकजाई के हवाले से लिखा है, “हमने फिल सिमंस को इसलिए चुना क्योंकि वह हमारी टीम को समझते हैं. वह वेस्टइंडीज, जिम्बाब्वे और आयरलैंड की टीमों के कोच रह चुके हैं. यह सभी वही टीमें हैं जो अफगानिस्तान से विश्व कप क्वालीफायर में खेलेंगी.