सिडनी में खेले गए तीसरे और आखिरी ट्वेंटी-20 मैच के शुरू होने से पहले हर भारतीय दर्शक इस बात से डरा हुआ था कि कहीं इस मैच में भी बारिश विलेन बन कर भारत के हाथ से यह सीरीज न छीन ले. लेकिन वहां के बादल इतना पानी न जुटा पाए और भारतीय टीम ने रविवार, 25 नवंबर को आखिरी मुकाबले में औस्ट्रेलिया को 6 विकेट से हरा दिया.

इस मैच में औस्ट्रेलियाई टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए तय 20 ओवरों में 6 विकेट पर 164 रन बनाए. इस के जवाब में भारतीय टीम ने 19.4 ओवरों में 4 विकेट खो कर जरूरी टारगेट हासिल करते हुए शानदार जीत दर्ज की.

औस्ट्रेलिया के 4 बल्लेबाजों को आउट करने वाले कुणाल पांड्या को ‘प्लेयर औफ द मैच’, जबकि शिखर धवन को ‘प्लेयर औफ द सीरीज’ चुना गया.

लेकिन अभी भारत को औस्ट्रेलिया में 4 टेस्ट मैच और 3 वनडे मैच खेलने हैं. पहला टेस्ट मैच 6 दिसंबर को एडिलेड में खेला जाएगा जबकि इस सीरीज का आखिरी मैच वनडे होगा जो 18 जनवरी को मेलबोर्न में होगा.

कागजों पर भले ही कंगारुओं की मौजूदा टीम हल्की लग रही है पर ट्वेंटी-20 मैचों में जैसे उस ने सीरीज 1-1 से बराबर रखी, इस बात से उस का हौसला बढ़ गया है.

लेंगे इनकी मदद

हालांकि इंटरनेशनल क्रिकेट से फिलहाल बाहर चल रहे औस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ और उपकप्तान डेविड वौर्नर भारत के खिलाफ होने वाले 4 टेस्ट मैचों की सीरीज में नहीं खेल पाएंगे लेकिन ये दोनों बाहर से अपने तेज गेंदबाजों को विराट कोहली और उन की टीम से निबटने के लिए तैयार कर रहे हैं.
एक औस्ट्रेलियाई अखबार के मुताबिक उन्हें किसी खास मकसद से भारत के खिलाफ आखिरी ट्वेंटी-20 मैच से पहले सिडनी क्रिकेट ग्राउंड के ड्रेसिंग रूम में भी बुलाया गया था.

भारत के कप्तान विराट कोहली चूंकि अपनी बेहतरीन फौर्म में हैं और स्टीव स्मिथ व डेविड वार्नर उम्दा बल्लेबाज हैं तो वे दोनों औस्ट्रेलियाई गेंदबाजों के सामने बल्लेबाजी करने को तैयार हो गए हैं ताकि उन को सधी हुई गेंदबाजी करने में मदद मिल सके और वे भारतीय बल्लेबाजों पर अपनी गेंदबाजी से पूरी तरह से हमला कर सकें.

याद रहे कि स्टीव स्मिथ और डेविड वौर्नर के अलावा कैमरून बैनक्राफ्ट पर दक्षिण अफ्रीका के केपटाउन में इसी साल मार्च महीने में खेले गए एक टेस्ट मैच में गेंद से छेड़छाड़ के चलते बैन लगा था.

स्टीव स्मिथ और डेविड वौर्नर पर औस्ट्रेलिया के क्रिकेट बोर्ड ने 1-1 साल का बैन लगाया था जबकि कैमरून बैनक्राफ्ट पर 9 महीने का बैन लगा था. उन्होंने बीच में ही अपने बोर्ड से यह बैन हटाने की गुहार लगाई थी पर उसे माना नहीं गया.

अब अगर हमारे विरोधियों की यह चाल काम कर गई तो भारत की टेस्ट सीरीज जीतने की उम्मीदों पर बिना बारिश हुए पानी पड़ सकता है.

Tags:
COMMENT