सरिता विशेष

राजनीति में किसी तरह के षडयंत्र से लाभ लेने वाले लोगों की कभी कमी नहीं रही. नेता को अपना विरोध कभी पसंद नहीं आता. ऐसे में करीबी से करीबी लोग भी दुश्मन बन जाते हैं. राजनैतिक लोगों पर आरोप भी लगते रहते हैं. कभीकभी इन आरोपों में सच्चाई भी होती है. अपनी पावर के गुरूर में कुछ नेता ऐसे काम कर बैठते हैं, जो उन के गले की फांस बन जाता है.

बलात्कार जैसे मुद्दे बेहद संवेदनशील होते हैं. अगर ऐसी घटनाएं साजिशन होने लगें तो असल घटनाओं पर यकीन करना भी मुश्किल हो जाएगा. उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में लड़की के बलात्कार और उस के पिता की हत्या से राजनीति का क्रूर चेहरा बेनकाब होता है. जरूरत इस बात की है कि साजिश का परदाफाश हो और पीडि़त को न्याय मिले. सच्चाई साबित होने से षडयंत्र बेनकाब होगा और आगे ऐसे मामलों को रोकने में मदद मिलेगी.

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से यही कोई 56 किलोमीटर दूर उन्नाव जिले के माखी गांव का मामला कुछ ऐसा ही है. कविता के पिता और दोनों चाचा 15 साल पहले विधायक कुलदीप सेंगर के बेहद करीबी हुआ करते थे. गांव में कुलदीप के घर से कुछ घर छोड़ कर उन का भी मकान है.

कविता की 3 बहनें और एक भाई है. एक ही जाति के होने के कारण आपसी तालमेल भी अच्छा था. दोनों परिवार एकदूसरे के सुखदुख में शामिल होते थे. आपस में घनिष्ठ संबंध थे. दोनों ही परिवार माखी गांव के सराय थोक के रहने वाले थे. कविता के ताऊ सब से दबंग थे.

कुलदीप सेंगर ने युवा कांग्रेस से अपनी राजनीति शुरू की. चुनावी सफर में कांग्रेस का सिक्का कमजोर था तो वह सन 2002 में विधानसभा का पहला चुनाव बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर लड़े और उन्नाव की सदर विधानसभा सीट से विधायक बन गए.

कुलदीप के विधायक बनने के बाद कविता के घर वालों के साथ कुलदीप का व्यवहार बदलने लगा. अब वह उस परिवार से दूरी बनाने लगे थे. इस की अपनी वजहें भी थीं, जहां पूरा समाज कुलदीप को विधायकजी कहने लगा था, वहीं कविता के ताऊ कुलदीप को नाम से बुलाते थे.

कुलदीप ने अपनी छवि को बचाने के लिए इस परिवार से दूरी बनानी शुरू की. कविता के पिता और उन के दोनों भाइयों को लगा कि कुलदीप के भाव बढ़ गए हैं. उस में घमंड आ गया है. वह किसी न किसी तरह से उन को नीचा दिखाने की कोशिश में लगे रहे.

इस का नतीजा यह हुआ कि उन के बीच मनमुटाव बढ़ता गया. जब आपस में दुश्मनी बढ़ने लगी तो विरोधी भी इस दरार को चौड़ा करने में लग गए. एक तरफ जहां कविता का परिवार कुलदीप का विरोध कर रहा था, वहीं कुलदीप अपना राजनीतिक सफर आगे बढ़ाते गए. कुलदीप सिंह सेंगर का नाम उन्नाव जिले की राजनीति से उठ कर राजधानी लखनऊ तक पहुंचने लगा.

society

बारबार की जीत ने बढ़ाए विधायक कुलदीप सेंगर के हौसले

सत्ता के साथ संतुलन बनाए रखना कुलदीप भी सीख गए थे. अपने स्वभाव और ताकत से वह चुनाव जीतने का पर्याय बन चुके थे. ऐसे में वह दल बदल भी करने लगे. कुलदीप ने सन 2007 का विधानसभा चुनाव समाजवादी पार्टी के टिकट पर बांगरमऊ विधानसभा क्षेत्र से जीता और 2012 में इसी पार्टी से भगवंतनगर विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गए. कुलदीप की पत्नी संगीता सेंगर भी उन्नाव में जिला पंचायत की अध्यक्ष बन गईं.

उस समय उन्नाव जिले को महिला सशक्तिकरण की मिसाल कहा जाता था, क्योंकि वहां जिला पंचायत अध्यक्ष ही नहीं डीएम और एसपी की कुरसी को भी महिला अधिकारियों ने संभाल रखा था. 3 बार के विधायक कुलदीप सिंह को उम्मीद थी कि अखिलेश सरकार में उन्हें मंत्री पद मिलेगा, पर ऐसा नहीं हुआ.

इतना ही नहीं, कुलदीप सेंगर को जब लगा कि उन्हें पार्टी में दरकिनार किया जाने लगा है तो व्यथित हो कर उन्होंने सपा छोड़ दी और भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए. 2017 का विधानसभा चुनाव उन्होंने भाजपा के टिकट पर लड़ा और विधायक बने. बांगरमऊ विधानसभा क्षेत्र से विधायक बन जाने के बाद उन की भाजपा के वरिष्ठ नेताओं तक अच्छी पहुंच हो गई. अब उन का कद भी बढ़ गया था.

उधर विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और कविता के परिवार की रंजिश गहरी होती गई. उन्नाव जिले की पहचान दबंगों वाली है. अपराधी प्रवृत्ति के लोगों की वहां बहुतायत है. माखी गांव को आसपास क्षेत्र के गांवों से संपन्न समझा जाता है. यहां कारोबार भी दूसरों की अपेक्षा अच्छा चलता है. कविता के ताऊ पर करीब एक दरजन मुकदमे माखी और दूसरे थानों में कायम थे. करीब 10 साल पहले उन्नाव शहर में भीड़ ने ईंटपत्थरों से हमला कर के कविता के ताऊ को मार दिया था.

कविता के परिवार के लोगों ने इस घटना का जिम्मेदार विधायक कुलदीप को ही माना था. तब से दोनों परिवारों के बीच दूरी और बढ़ गई. कविता के ताऊ की मौत के बाद उस के चाचा उन्नाव छोड़ कर दिल्ली चले गए थे. वहां उन्होंने अपना इलैक्ट्रिक वायर का बिजनैस शुरू किया. उन पर करीब 10 मुकदमे थे. गांव में अब कविता के पिता अकेले रह गए. उन के ऊपर भी 2 दरजन मुकदमे कायम थे. नशा और मुकदमों का बोझ उन्हें बेहाल कर चुका था.

सरिता विशेष

बलात्कार के आरोप के बावजूद पुलिस ने पूछताछ तक नहीं की विधायक से कविता और विधायक कुलदीप सेंगर के परिवार में दुश्मनी का खतरनाक मोड़ जून, 2017 में तब आया, जब कविता और उस के परिवार ने विधायक कुलदीप सेंगर पर बलात्कार का आरोप लगाया. जानकारी के अनुसार जून, 2017 में राखी नामक महिला कविता को ले कर विधायक कुलदीप के पास गई. जहां विधायक ने उसे बंधक बना कर उस के साथ बलात्कार किया. बलात्कार का आरोप विधायक के भाई और साथियों पर भी लगा.

घटना के 8 दिन बाद कविता औरैया जिले के पास मिली. कविता और उस के पिता ने इस बात की शिकायत थाने में की. तब पुलिस ने 3 आरोपी युवकों को जेल भेज दिया. पुलिस ने घटना में विधायक का नाम शामिल नहीं किया. कविता और उस का परिवार विधायक का नाम भी मुकदमे में शामिल कराना चाहते थे.

एक साल तक कविता और उस का परिवार विधायक के खिलाफ गैंगरेप का मुकदमा लिखाने के लिए उत्तर प्रदेश के गृह विभाग से ले कर उन्नाव के एसपी तक भटकता रहा. इस के बाद भी विधायक के खिलाफ एफआईआर नहीं हुई.

विधायक के खिलाफ मुकदमा न लिखे जाने के कारण कविता और उस के परिवार के लोगों ने सीआरपीसी की धारा 156(3) के तहत कोर्ट से मुकदमा लिखाए जाने की अपील की.

इस के बाद 3 अप्रैल, 2018 को विधायक के छोटे भाई ने कविता के पिता के साथ मारपीट की और मुकदमा वापस लिए जाने को कहा. कविता और उस के परिवारजनों ने पुलिस में मुकदमा लिखाया. इस के साथ विधायक के लोगों की तरफ से भी मुकदमा लिखाया गया.

पुलिस ने क्रौस एफआईआर लिखी पर एकतरफा काररवाई करते हुए केवल कविता के पिता को ही जेल भेज दिया. विधायक पक्ष के लोगों से पुलिस ने पूछताछ तक नहीं की.

कविता का आरोप है कि जेल में विधायक के लोगों ने उस के पिता की खूब पिटाई की. 8 अप्रैल, 2018 को कविता अपने परिवार के लोगों के साथ राजधानी लखनऊ आई और सीधे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास कालीदास मार्ग पहुंच गई. वहां उस ने आत्मदाह करने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने उसे पकड़ लिया और गौतमपल्ली थाने ले गई.

डीजीपी ने इस पूरे मामले की जांच उन्नाव की एसपी पुष्पांजलि को करने के निर्देश दिए. इस बीच जेल में ही कविता के पिता की मौत हो गई. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृतक के शरीर पर चोट के 14 निशान मिले.

उन्नाव के सीएमओ डा. एस.पी. चौधरी की अगुवाई में 3 डाक्टरों के पैनल ने पोस्टमार्टम किया. मृतक के पैर, हाथ, कमर, पीठ और पिंडली में चोट मिली. पेट में डंडे या किसी चीज से ताबड़तोड़ प्रहार होने पर आंत में घाव हो गया था. इस से वह सेप्टिसेमिया का शिकार हो गए, जो उन की मौत का कारण बना.

एक ओर बलात्कार का दर्द, दूसरी ओर पिता की मौत का गम

किसी लड़की के लिए इस से दर्दनाक क्या हो सकता है कि जिस समय वह न्याय की मांग ले कर मुख्यमंत्री से मिले, उसी समय उस का पिता मौत के मुंह में चला जाए. कविता के पिता की मौत के बाद सरकार भी हरकत में आ गई. एसपी पुष्पांजलि ने एकतरफा काररवाई करते हुए कविता के पिता को जेल भेजने के दोषी माखी थाने के थानाप्रभारी अशोक सिंह भदौरिया सहित 6 पुलिस वालों को तुरंत सस्पेंड कर दिया. इतना ही नहीं, मामले की जांच एसआईटी और क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई.

सत्ता में रहने वाले विधायक की हनक अलग होती है. उस के खिलाफ पुलिस में मुकदमा कायम करना आसान नहीं होता. कुलदीप सिंह सेंगर के मामले को देखें तो पूरी बात साफ हो जाती है. अपना विरोध करने वालों के साथ सत्ता की हनक में विधायक कुलदीप सेंगर ने जो कुछ किया, अब वह योगी सरकार के गले की फांस बन गया.

उन्नाव से ले कर राजधानी लखनऊ तक केवल पुलिस ही नहीं, जेल और अस्पताल तक में जिस तरह से विधायक के विरोधी के साथ बर्ताव हुआ, वह किसी कबीले की घटना से कम नहीं है.

आप ने ऐसे दृश्य फिल्मों में देखे होंगे जिन में अपने विरोधी की पिटाई पानी डाल कर की जाती थी. फिर मरणासन्न अवस्था में पीडि़त के ही खिलाफ मुकदमा कायम करा कर पुलिस की मिलीभगत से जेल भेज दिया जाता था. घायल को ले कर पुलिस सरकारी अस्पताल जाती, जहां उस का इलाज करने के बजाए जेल भेज दिया जाता. घायल को जेल में सही इलाज नहीं मिलता, जिस से वह तड़पतड़प कर मर जाता है.

यहां हकीकत में भी ऐसा ही हुआ. पुलिस से ले कर जेल और अस्पताल तक के लोग विधायक कुलदीप सेंगर की धौंस के आगे नतमस्तक बने रहे.

जेल में जाने के दूसरे ही दिन घायल की मौत हो गई. मौत के बाद जागी सरकार के दबाव में पुलिस विभाग ने अपने कर्मचारियों को भले ही सस्पेंड कर दिया, पर जिला जेल और अस्पताल के लोगों को कोई सजा नहीं दी गई.

अपना दामन बचाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने पूरे मामले की जांच के लिए एसआईटी बना दी है. विधायक के भाई अतुल सिंह सेंगर को मारपीट के मामले में गिरफ्तार कर लिया गया है.

मामला मीडिया द्वारा उछालने के बाद 12 अप्रैल, 2018 को विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और सहयोग देने वाली महिला राखी के खिलाफ भादंवि की धारा 363, 366, 376, 505 और पोक्सो एक्ट में मुकदमा लिखा गया. कविता के पिता की मौत के बाद पूरा मामला हाईवोल्टेज ड्रामा में बदल गया. हाईकोर्ट ने मामले का स्वत: संज्ञान लिया.

पूरे घटनाक्रम को देखें तो इस में विधायक की धौंस पता चलती है. रेप कांड की शिकार कविता ने जिस राखी नाम की महिला के साथ विधायक के घर जाने की बात कही थी, उस ने नया खुलासा करते हुए बताया कि यह कविता विधायक से पहले उस के बेटे पर भी रेप का आरोप लगा कर जेल भिजवा चुकी है. कविता के साथ रेप की सच्चाई जो भी हो, पर उस के पिता की पिटाई और मौत के मामले में विधायक और उन के करीबी लोगों के खिलाफ तमाम सबूत मिल रहे हैं.

society

कविता के पिता की जेल में मौत के बाद उत्तर प्रदेश की राजनीति गरमा गई. विपक्षी दलों में समाजवादी पार्टी से ले कर कांग्रेस तक ने सरकार पर आरोप लगाने शुरू कर दिए. खुद विधायक कुलदीप सेंगर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने आए. मुख्यमंत्री ने विधायक से मुलाकात नहीं कर के विधायक को यह संदेश दिया कि वह पुलिस जांच में सहयोग करें.

सरकार की सख्ती के बाद कविता के पिता से मारपीट के आरोपी विधायक के भाई अतुल सिंह को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. कविता ने इस के बाद भी अपनी लड़ाई जारी रखी है. कविता का कहना है कि पूरे मामले में विधायक भी दोषी है, उन की भी गिरफ्तारी होनी चाहिए.

सरकारी अधिकारी पूरे मामले में विधायक की भूमिका की भी जांच कर रहे हैं. सरकार ने एसआईटी गठित कर दी है. एसआईटी की जांच टीम के अधिकारी राजीव कृष्ण ने माखी गांव जा कर पूरा मामला समझा और अपनी जांच रिपोर्ट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंप दी. इस के आधार पर पुलिस के साथ ही जिला अस्पताल के डाक्टर के खिलाफ भी कड़ी काररवाई करने के संकेत दिए.

उत्तर प्रदेश सरकार ने सीबीआई को पूरे मामले की जांच सौंप दी है, जिस से उन्नाव कांड को ले कर हो रही राजनीति के प्रभाव को दबाया जा सके और सरकार की छवि भी बची रहे.

विधायक कुलदीप सेंगर ने खुद एसएसपी लखनऊ के सामने पेश हो कर अपनी सफाई दी. दूसरी तरफ विधायक की पत्नी संगीता सेंगर उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओ.पी. सिंह से मिलीं और उन्हें बताया कि पूरा मामला राजनीतिक षडयंत्र से प्रेरित है. ऐसे में कविता और उन के पति का नारको टेस्ट कराया जाए.

संगीता ने यह भी दावा किया कि उन के पति और कविता की कभी मुलाकात ही नहीं हुई. भारी दबाव के कारण आखिर सीबीआई को आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को गिरफ्तार करना पड़ा. सीबीआई ने 13 अप्रैल, 2018 रात 10 बजे विधायक को गिरफ्तार कर लिया. अब इलाहाबाद हाईकोर्ट इस पूरे मामले की जांच की निगरानी करेगा.

चीफ जस्टिस डी.बी. भोसले की बेंच ने सीबीआई से 2 मई को जांच की स्टेटस रिपोर्ट मांगी है. कोर्ट ने आदेश दिया है कि सीबीआई कानून के तहत सख्ती से जांच करे.

घटना के बाद से लड़की को ले कर तमाम तरह के औडियो और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने लगे, जिन से पता चलता है कि घटना के पीछे दुश्मनी की वजह को रख कर एक राजनीतिक रंग भी दिया जा रहा है. सत्ता में शामिल खुद भाजपा 2 खेमों में बंट गई है. इन वजहों से जांच का सही पक्ष सामने आना मुश्किल लग रहा है. ऐसे में अब कोर्ट के फैसले से ही सच का पता चल सकेगा. ?

– बलात्कार कानून के मद्देनजर पीड़ित और उस के पक्ष की हर पहचान छिपाने के लिए नाम नहीं लिखा गया है और कविता व राखी परिवर्तित नाम हैं.

VIDEO : मरीन नेल आर्ट

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.