करीब सवा 2 साल पहले फरवरी, 2016 में मोहित गोयल अचानक सुर्खियों में आ गया था. कारण यह था कि मोहित ने ‘फ्रीडम 251’ नाम से दुनिया का सब से सस्ता स्मार्टफोन बेचने का दावा किया था. इस के लिए उस ने जो कंपनी बनाई थी, उस का नाम था रिंगिंग बेल्स. इस स्मार्टफोन की लौंचिंग भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने नई दिल्ली में आयोजित भव्य समारोह में की थी.

केवल 251 रुपए में स्मार्ट मोबाइल फोन देने की घोषणा से मोहित गोयल भारत के सब से अमीर उद्योगपति मुकेश अंबानी सहित दुनिया भर के बड़े उद्योगपतियों और मोबाइल फोन तथा दूरसंचार क्षेत्र की कंपनियों की नजर चढ़ गया था. इतने कम दाम में स्मार्ट मोबाइल फोन बेचने की घोषणा से मोहित गोयल और उस की कंपनी रिंगिंग बेल्स भारत के हर घर में उस समय चर्चा का विषय बन गई.

अखबारों में पूरे पेज के विज्ञापन दे कर 17 से 21 फरवरी, 2016 तक फ्रीडम 251 स्मार्टफोन की औनलाइन बुकिंग की घोषणा की गई. इतने सस्ते दामों पर मोबाइल लेने वालों की होड़ में लगातार बुकिंग का इतना दबाव बढ़ा कि कंपनी की वेबसाइट ही क्रश हो गई. उस समय करीब साढ़े 7 करोड़ मोबाइल फोन की बुकिंग औनलाइन हुई.

इस मोबाइल की लौंचिंग के समय कंपनी ने इस के सस्ता होने का गणित बताते हुए भले ही हरेक बुकिंगकर्ता को चरणबद्ध तरीके से फोन डिलीवर करने का वादा किया था, लेकिन कंपनी अपना यह वादा पूरा नहीं कर सकी. इस का सीधा सा कारण था कि दुनिया भर में सब से सस्ते स्मार्ट मोबाइल फोन की कीमत उस समय 2 हजार रुपए से ज्यादा पड़ती थी. ऐसे में मोहित गोयल की रिंगिंग बेल्स कंपनी कब तक और कितना घाटा उठा सकती थी. कंपनी की जमापूंजी भी कोई बहुत ज्यादा नहीं थी.

बाद में मोहित गोयल पर कई तरह के आपराधिक मामले दर्ज हुए, उसे गिरफ्तार भी किया गया. अब उसी मोहित गोयल का एक घिनौना चेहरा सामने आया है. दिल्ली पुलिस ने 10 जून को गैंगरेप की शिकार एक महिला को उस के 2 साथियों सहित हनीट्रैप में गिरफ्तार कर लिया.

इस महिला के साथ पकड़े गए उस के साथियों में रिंगिंग बेल्स कंपनी का एमडी मोहित गोयल भी शामिल था. महिला और उस के दोनों साथी गैंगरेप के मामले में आरोपियों के परिजनों से सौदेबाजी कर 30 लाख रुपए लेते हुए रंगेहाथ पकड़े गए. आरोपियों के घर वाले इस से पहले पीडि़त महिला के कहने पर उस के साथियों को एक करोड़ 10 लाख रुपए दे चुके थे.

होटल में किया गैंगरेप

गैंगरेप की इस कहानी को जाननेसमझने के लिए हमें दिल्ली से करीब 75 किलोमीटर दूर भिवाड़ी से शुरुआत करनी होगी. हरियाणा की सीमा पर स्थित राजस्थान के जिला अलवर की औद्योगिक नगरी भिवाड़ी में इसी 5 मई को पुलिस को बाईपास स्थित एक होटल में एक महिला से सामूहिक दुष्कर्म होने की सूचना मिली.

इस पर एडीशनल एसपी पुष्पेंद्र सिंह सोलंकी, डीएसपी सिद्धांत शर्मा और फूलबाग थानाप्रभारी विक्रांत शर्मा मौके पर पहुंचे. वहां पुलिस को एक युवती नशे की हालत में मिली. पुलिस ने उसी दिन देर शाम महिला को सिविल अस्पताल ले जा कर उस का मैडिकल कराया. पुलिस इस होटल से कुछ लोगों को पकड़ कर फूलबाग थाने ले गई, जहां उन से पूछताछ की गई.

society

दूसरे दिन तबीयत सुधरने पर पीडि़त महिला ने पुलिस को बताया कि वह दिल्ली के जनकपुरी इलाके की रहने वाली है और इवेंट मैनेजमेंट का काम करती है. उस ने कुछ समय पहले दिल्ली के पीतमपुरा निवासी राकेश मंगल की पत्नी के जन्मदिन की पार्टी का इवेंट मैनेज किया था. इसी वजह से वह राकेश मंगल के संपर्क में थी.

घटना से कुछ दिन पहले राकेश मंगल ने उसे बताया था कि राजस्थान के अलवर में उन की एक कंपनी है. इस कंपनी में बड़ा इवेंट करना है. इस इवेंट की जिम्मेदारी संभालने के लिए राकेश ने उस महिला को राजी कर लिया.

राकेश मंगल 5 मई को महिला को अलवर स्थित अपनी कंपनी की साइट दिखाने और इवेंट के बारे में बताने के लिए कार में बैठा कर दिल्ली से अलवर के लिए ला रहा था. दिल्ली पार कर के जब गुड़गांव भी निकल गया तो मन टटोलने के लिए राकेश ने उस महिला से चायनाश्ते के बारे में पूछा.

महिला ने सुबह से भूखा होने के कारण चायनाश्ते की सहमति दे दी. इस पर राकेश मंगल ने कहा कि कुछ ही देर में भिवाड़ी आने वाला है. भिवाड़ी में कई अच्छे होटल हैं, वहां रुक कर चाय वगैरह पीएंगे.

राकेश मंगल ने भिवाड़ी में बाईपास स्थित एक होटल में चायनाश्ते के लिए गाड़ी रोक दी. इस होटल में राकेश मंगल के 4 साथी पहले से मौजूद थे. इन में राकेश के एक साथी विकास जिंदल ने होटल में पहले ही 3 कमरे बुक करा रखे थे. महिला को होटल में कमरे बुक होने का पता नहीं था.

महिला ने पुलिस को बताया कि राकेश मंगल और उस के साथियों ने कोल्डड्रिंक में नशीला पदार्थ मिला कर उसे पिला दिया, जिस से वह अचेत हो गई. इस के बाद 5 लोगों ने होटल के कमरे में उस से सामूहिक दुष्कर्म किया.

बाद में होश आने पर पीडि़त महिला ने अपनी सहेली को मोबाइल से मैसेज और लोकेशन भेज कर मदद की गुहार की. पीडि़ता की सहेली ने भिवाड़ी पुलिस से संपर्क कर मामले की जानकारी दी. इस के बाद पुलिस मौके पर पहुंच गई.

गिरफ्तार हुए पांचों आरोपी

भिवाड़ी पुलिस ने महिला के बयान के आधार पर फूलबाग थाने में मामला दर्ज कर लिया. पुलिस ने महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में उसी दिन यानी 6 मई को पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. इन में दिल्ली के पीतमपुरा निवासी राकेश मंगल, फ्रैंड्स एनक्लेव नांगलोई के विष्णु बंसल, रामपुरा लौरेंस रोड के विकास जिंदल, रोहिणी निवासी संजय गर्ग और संदीप कौशिक शामिल थे. पुलिस ने पांचों आरोपियों का भी मैडिकल कराया. ये पांचों आरोपी आपस में दोस्त और संपन्न परिवारों से थे.

पुलिस ने पांचों आरोपियों को उसी दिन अलवर ला कर मजिस्ट्रैट के समक्ष पेश किया. मजिस्ट्रैट ने उन्हें एक दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया.

रिमांड अवधि पूरी होने पर 7 मई को पुलिस ने पांचों आरोपियों को भिवाड़ी के जुडीशियल मजिस्ट्रैट न्यायालय में पेश किया. मजिस्ट्रैट दीपिका सिंह ने पांचों आरोपियों को न्यायिक अभिरक्षा में किशनगढ़बास उपकारागृह भेज दिया. दूसरी ओर पुलिस ने मजिस्ट्रैट के समक्ष पीडि़त महिला के धारा 164 के तहत बयान दर्ज करा दिए.

इस मामले में भिवाड़ी की फूलबाग थाना पुलिस ने आवश्यक जांचपड़ताल के बाद अदालत में चालान पेश कर दिया. पुलिस ने चालान में पांचों आरोपियों को गैंगरेप का दोषी माना. यह मामला अब अदालत में विचाराधीन है.

देखा जाए तो इस कहानी को यहां खत्म हो जाना चाहिए था. लेकिन इस हाईप्रोफाइल मामले की कहानी का अभी केवल मध्यांतर ही हुआ है. कहानी का अगला अध्याय अब दिल्ली में शुरू होगा. अभी तक आप के जेहन में यह सवाल तेजी से घूम रहा होगा कि गैंगरेप की इस कहानी में 251 रुपए में मोबाइल देने वाली कंपनी रिंगिंग बेल्स का एमडी मोहित गोयल तो सामने ही नहीं आया? आप को सवाल का जवाब आगे की कहानी में मिलेगा.

आरोपियों से मांगे 10 करोड़

दरअसल, इस मामले में चालान पेश होने के बाद नया मोड़ आ गया. पीडि़त महिला ने गैंगरेप का मामला वापस लेने या इस मामले में सुनवाई के दौरान बयान बदलने के लिए आरोपियों से 10 करोड़ रुपए मांगे थे. बाद में बिचौलियों के माध्यम से ढाई करोड़ में सौदा तय हो गया. इस समझौते के तहत बिचौलियों के माध्यम से पीडि़त महिला को एक करोड़ 10 लाख रुपए दे दिए गए थे. यह रकम बिचौलियों ने ली थी. पीडि़त महिला इस दौरान सामने नहीं आई थी.

बाकी रकम की दूसरी किस्त के रूप में 30 लाख रुपए 10 जून को दिल्ली में नेताजी सुभाष प्लेस इलाके में एक शौपिंग मौल में देने की बात तय हुई. इस बीच गैंगरेप के एक आरोपी के भाई ने नौर्थवेस्ट दिल्ली के नेताजी सुभाष प्लेस पुलिस थाने में इस बात की शिकायत कर दी. इस के साथ ही महिला और बिचौलियों से सौदेबाजी की बातचीत की रिकौर्डिंग, वाट्सऐप मैसेज व सीसीटवी कैमरे की रिकौर्डिंग भी पुलिस को सौंप दी.

इस शिकायत पर नौर्थवेस्ट के डिप्टी पुलिस कमिश्नर असलम खान के निर्देशन में एक टीम गठित कर आरोपियों को रंगेहाथ पकड़ने की योजना बनाई गई. पुलिस की योजना के मुताबिक गैंगरेप के आरोपियों के परिजनों ने इस मामले में बिचौलिए की भूमिका निभा रहे विकास मित्तल और मोहित गोयल से कहा कि दूसरी किस्त की रकम तब देंगे, जब गैंगरेप का मुकदमा दर्ज कराने वाली महिला हमें लिखित में यह शपथपत्र देगी कि गैंगरेप के लगाए गए आरोप झूठे हैं.

बिचौलियों से उस महिला को शपथपत्र लिखवाने के लिए साथ लाने की बात तय हो जाने पर डीसीपी असलम खान के नेतृत्व में पुलिस ने अपना जाल बिछा दिया. इस के तहत गैंगरेप के आरोपियों के परिजनों को 30 लाख रुपए से भरा बैग ले कर 10 जून को पहले से निर्धारित शौपिंग मौल में भेज दिया गया. इस मौल के आसपास पहले से पुलिस टीम सादा कपड़ों में तैनात थी.

महिला और उस के 2 साथी हुए गिरफ्तार

कुछ देर बाद एक महिला और 2 युवक उस शौपिंग मौल के औफिस में पहुंचे. उन्होंने गैंगरेप के आरोपियों के परिजनों से बात की. रेप के आरोपियों ने बैग में से रकम निकाल कर मेज पर रख दी ताकि उन्हें विश्वास हो जाए कि दूसरी किस्त का पूरा पैसा आ गया.

इसी दौरान दिल्ली पुलिस की टीम ने उस शौपिंग मौल के औफिस में छापा मारा. छापे के दौरान मेज पर नोटों की गड्डियों के ढेर पड़े मिले. वहां एक महिला और 2 युवक मौजूद थे.

society

पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया. इन में वह महिला भी थी, जिस ने भिवाड़ी के फूलबाग थाने में गैंगरेप का मुकदमा दर्ज कराया था और पकड़े गए 2 युवकों में एक मोहित गोयल और दूसरा उस का रिश्तेदार विकास मित्तल था. इन में मोहित गोयल आजकल गाजियाबाद में और विकास मित्तल दिल्ली में रह रहा था.

दिल्ली पुलिस जब महिला और उस के दोनों साथियों को पकड़ कर ले जा रही थी तो गैंगरेप के आरोपियों के परिवारों की महिलाओं ने उस महिला की जम कर धुनाई कर दी. इन महिलाओं का कहना था कि यह महिला झूठा आरोप लगा कर हमारे परिवार वालों को जेल में बंद करवा चुकी है और झूठे मामले को खत्म करवाने के लिए हम से पैसे ऐंठ रही है.

बाद में थाने ले जा कर की गई पुलिस की पूछताछ में पता चला कि मोहित गोयल और विकास मित्तल गैंगरेप की पीडि़त महिला के सहयोगी थे. ये दोनों युवक महिला की ओर से भिवाड़ी में दर्ज कराए गए गैंगरेप के मामले में आरोपियों के घर वालों से सौदेबाजी की रकम लेने उस के साथ आए थे.

दिल्ली पुलिस उस समय हैरान रह गई, जब पूछताछ में यह बात सामने आई कि मोहित गोयल नाम का जो शख्स गिरफ्तार किया था, वह 251 रुपए में स्मार्ट मोबाइल फोन बेचने का दावा करने वाली कंपनी रिंगिंग बेल्स का मैनेजिंग डायरेक्टर था.

दिल्ली पुलिस की पूछताछ में सामने आया कि विकास मित्तल ने एक कारोबारी से कर्ज के रूप में करोड़ों रुपए ले रखे थे. वह कारोबारी विकास पर रुपए वापस करने का दबाव बना रहा था. इसे ले कर उस का उस कारोबारी से कई बार विवाद भी हो गया था. इसे ले कर विकास परेशान था.

विकास मित्तल का पश्चिमी दिल्ली के पंजाबीबाग में रेस्तरां बार लाउंज है. इस लाउंज में बतौर इवेंट मैनेजर एक महिला काम करती थी. विकास ने इसी महिला के जरिए उस कारोबारी और उस के अन्य कारोबारी दोस्तों से हनीट्रैप के जरिए पैसा वसूलने की साजिश रची थी.

पूरी प्लानिंग से रची थी साजिश

इस के बाद विकास ने उस इवेंट मैनेजर महिला से बात की और उसे 30-40 लाख रुपए देने का वादा कर के कारोबारियों पर गैंगरेप का आरोप लगाने के लिए राजी कर लिया. विकास ने एडवांस के तौर पर इस महिला को 4 लाख रुपए भी दे दिए. मोटी रकम मिलने के लालच में महिला विकास का साथ देने को तैयार हो गई. विकास ने कारोबारियों से रकम वसूलने के लिए अपने कजन और रिंगिंग बेल्स कंपनी के एमडी मोहित गोयल को तैयार कर लिया.

विकास मित्तल और मोहित गोयल के कहने पर इवेंट मैनेजर महिला ने दिल्ली से 5 लोगों को जमीन खरीदने के लिए भिवाड़ी चलने की बात तय की. तय कार्यक्रम के मुताबिक दिल्ली निवासी राकेश मंगल, विष्णु बंसल, विकास जिंदल, संजय गर्ग और संदीप कौशिक 5 मई को भिवाड़ी पहुंच गए. ये पांचों लोग एकदूसरे को जानने के अलावा इवेंट मैनेजर महिला से भी परिचित थे.

भिवाड़ी पहुंच कर आराम करने के बहाने इन्होंने होटल में कमरे किराए पर ले लिए. होटल में पांचों ने मौजमस्ती की. इस के बाद महिला ने उन पांचों पर गैंगरेप का आरोप लगा कर भिवाड़ी के फूलबाग थाने में रिपोर्ट दर्ज करा दी. इस रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने जांचपड़ताल कर 6 मई को पांचों लोगों को गिरफ्तार कर लिया.

दिल्ली पुलिस के सामने पूछताछ में जो बातें सामने आईं, उस के मुताबिक पांचों कारोबारियों की गिरफ्तारी होने पर विकास मित्तल और मोहित गोयल ने गैंगरेप के आरोपियों के परिजनों से संपर्क किया और महिला को कुछ रकम दे कर शिकायत वापस लेने की बात कही.

विकास के कहने पर महिला ने आरोपियों के परिजनों से 10 करोड़ रुपए मांगे. बाद में विकास और मोहित की मध्यस्थता से ढाई करोड़ में सौदा तय हो गया. यह रकम 3 किस्तों में देने की बात तय हुई.

महिला को 4 लाख दिए थे एडवांस में

पहली किस्त के रूप में आरोपियों के घर वालों ने बिचौलियों को एक करोड़ 10 लाख रुपए दे दिए थे. यह रकम देने की कैमरे में रिकौर्डिंग भी की गई. दूसरी किस्त में 10 जून को 30 लाख रुपए देने तय थे, तभी दिल्ली पुलिस ने जाल बिछा कर कथित पीडि़त महिला और उस के सहयोगी मोहित गोयल व विकास मित्तल को रकम लेते रंगेहाथ पकड़ लिया.

महिला ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि उसे विकास मित्तल ने 4 लाख रुपए दे कर योजना में शामिल किया था. उसे यह नहीं पता था कि गैंगरेप के आरोपियों से मोहित गोयल और विकास मित्तल ने कितने रुपए वसूले हैं. उसे 10 जून को शपथपत्र पर दस्तखत करने के लिए बुलाया गया था.

दिल्ली पुलिस ने महिला और उस के दोनों सहयोगियों को 11 जून को रोहिणी कोर्ट में पेश किया, जहां ड्यूटी महानगर दंडाधिकारी सुशील कुमार ने महिला को न्यायिक हिरासत में भेज दिया. बाकी 2 आरोपियों मोहित गोयल और विकास मित्तल को 2 दिन के पुलिस रिमांड पर सौंप दिया गया. रिमांड अवधि पूरी होने पर इन दोनों को भी जेल भेज दिया गया.

जांच में यह बात भी सामने आई कि दिल्ली का रेस्तरां बार लाउंज संचालक विकास मित्तल खुद को कई आईएएस अफसरों और राजनेताओं का नजदीकी बताता था. अधिकारियों और नेताओं से अपने अच्छे संबंधों के नाम पर वह गैंगरेप के आरोपियों के परिजनों को धमकाता था.

दिल्ली पुलिस को आशंका है कि विकास मित्तल और मोहित गोयल हाईप्रोफाइल हनीट्रैप रैकेट चलाते हैं. पुलिस को इन के खिलाफ फोन पर धोखाधड़ी की कई शिकायतें मिली हैं. पुलिस ने ऐसे पीडि़तों से लिखित में शिकायत मांगी है. लिखित में शिकायत मिलने पर शिकायतों की जांच की जाएगी.

दूसरी ओर अलवर जिले की भिवाड़ी पुलिस का कहना है कि चूंकि इस मामले में पहले ही चालान पेश हो चुका है, इसलिए दिल्ली में पीडि़ता की गिरफ्तारी और रकम के लेनदेन का इस केस से कोई ताल्लुक नहीं है. अब मामला अदालत में है. आगे जो भी काररवाई होगी, वह अदालत के आदेश पर ही होगी.

रिंगिंग बेल्स कंपनी का मैनेजिंग डायरेक्टर मोहित गोयल उत्तर प्रदेश के शामली शहर में गढ़ी पुख्ता के रहने वाले राजेश गोयल का बेटा है. शामली में सेंट आरसी कौन्वेंट स्कूल से पढ़ाई पूरी करने के बाद वह नोएडा चला आया था.

society

नोएडा में उस ने एमिटी यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की. अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद सितंबर 2015 में मोहित ने रिंगिंग बेल्स कंपनी की स्थापना की. उसी दौरान नोएडा की रहने वाली धारणा से मोहित की शादी हो गई.

सस्ता स्मार्टफोन देने की घोषणा के बाद टूट पड़ा मुसीबतों का पहाड़

भारत में 251 रुपए का सब से सस्ता स्मार्ट मोबाइल फोन बेचने का आइडिया मोहित का ही था. इस आइडिया को मूर्तरूप देने के काम में उस की मदद एस्ट्रोफिजिसिस्ट अशोक चड्ढा ने की. मोहित ने अपनी कंपनी रिंगिंग बेल्स में अशोक चड्ढा को प्रेसीडेंट बनाया और नोएडा में औफिस खोला.

उस समय इन लोगों ने यह कह कर भी प्रचार किया कि इतना सस्ता मोबाइल डिजिटल इंडिया अभियान का हिस्सा है. इस में सरकार भी सहयोग कर रही है. इस मोबाइल को मेक इन इंडिया और स्टार्टअप इंडिया योजना का भी हिस्सा बताया गया.

बाद में मोहित गोयल की लोगों को 251 रुपए में स्मार्टफोन देने की योजना फेल हो गई. इस का सीधा सा कारण यह था कि मोबाइल की लागत बहुत ज्यादा आ रही थी और भरपाई कहीं से नहीं हो रही थी. अरबोंखरबों रुपए का घाटा सहन करने की कंपनी की क्षमता नहीं थी.

बाद में मोहित गोयल पर कई केस दर्ज हो गए. मोहित पर आरोप लगा कि उस ने मोबाइल फोन बेचने के लिए डिस्ट्रीब्यूटर बना दिए और उन से करोड़ों रुपए ले लिए. मोबाइल फोन की योजना फेल हो जाने पर डिस्ट्रीब्यूटर्स को पैसा नहीं लौटाया गया. भाजपा के ही वरिष्ठ नेता कीर्ति सोमैया ने इसे पोंजी स्कैम बताया था. रिंगिंग बेल्स के खिलाफ पुलिस में सैकड़ों शिकायतें पहुंची थीं.

पुलिस और प्रवर्तन निदेशालय ने इस मामले की जांचपड़ताल शुरू की तो कंपनी के प्रमोटर भूमिगत हो गए. इस बीच उत्तर प्रदेश पुलिस ने फरवरी 2017 में मोहित गोयल को गिरफ्तार कर लिया था. बाद में मोहित की जमानत 31 मई, 2017 को इलाहाबाद हाईकोर्ट से हुई थी. इस दौरान रिंगिंग बेल्स का नोएडा औफिस बंद हो गया था.

मोहित गोयल महत्त्वाकांक्षी रहा है. इसीलिए उस ने भारत में 251 रुपए के स्मार्ट मोबाइल फोन के नाम पर एक बार तहलका मचा दिया था. अभी तो उस के खिलाफ कई जांचें चल रही हैं. अपनी महत्त्वाकांक्षाओं को पूरा करने के लिए वह इस तरह के हनीट्रैप के हथकंडे अपनाएगा, यह बात किसी ने सोची भी नहीं थी.

Tags:
COMMENT