समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा अपने किये गये वादे पूरे नहीं कर रही. वह जनता को किसी न किसी बहाने झांसे में रखना चाहती है. इस कारण कभी किसी महापुरूष के नाम की राजनीति करती है तो कभी परिवारवाद और जातिवाद की बातें करती है. लखनऊ मे मेट्रो से लेकर गाजियाबाद में एलीवेटेड रोड के उद्घाटन तक में भाजपा का कोई योगदान नहीं है. वहां जातिवाद और परिवारवाद की बातों का क्या मतलब? भाजपा ‘रामराम जपना’ वाला काम कर रही है. भाजपा जनता को भुलावे में रखने के लिये अपनी जेब में पुड़िया, क्लोरोफार्म और ओपीएम रखती है.

अखिलेश यादव ने कहा ‘योगी सरकार ने किसानों के कर्ज माफ किये. अब उस कर्ज की रिकवरी हो रही है’ अखिलेश यादव ने इस विषय में पुख्ता सूबत के तौर पर मेरठ जिले की सरधना तहसील के जमालपुर गांव के प्रधान गौरव चौधरी को पेश किया. गौरव चौधरी ने बताया कि उसके गांव के 35 किसानों के खाते से कर्ज का पास वापस बैंक ने ले लिया. एक तरफ किसानों से कर्ज माफी का पैसा वापस लिया जा रहा है. दूसरी तरफ बड़े बड़े लोग बैंको का पैसा लेकर फरार हो रहे हैं. बैंको का घोटाला बहुत बड़ा घोटाला है जो धीरे धीरे सामने आ रहा है.

politics

अखिलेश यादव ने कहा ‘केन्द्र और प्रदेश दो दो जगहों पर सरकार बनाने के बाद भी भाजपा जनता को राहत नहीं दे पा रही है. भाजपा के विकास का डबल इंजन कहीं दिख नहीं रहा है. विकास से लेकर नौकरियों के सवाल पर भाजपा धोखा दे रही है. भाजपा खुद सबसे बडी जातिवादी पार्टी है.’

अखिलेश यादव ने राज्यसभा के चुनाव में रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया के सवाल पर कहा लग नहीं रहा कि वह हमारे साथ हैं. जब हमें लगा कि हमारे साथ हैं तब बधाई दी थी. जब लगा नहीं हैं तो डिलीट कर दी. उत्तर प्रदेश में दलितों की हालत पर अखिलेश यादव ने कहा ‘प्रदेश में दलितों की हालत खराब है. मूर्तियों की तोड़ने की घटनाएं इसका उदाहरण है. केवल प्रदेश में ही नहीं पूरे देश में यह हो रहा है. घोड़ी चढने पर दलित की जान ले ली जाती है. बिहार में हालत खराब है. भाजपा लोगों को अपमानित करने, डराने, धमकाने का काम करती है. लोकसभा के 2 उपचुनाव हारने के बाद भाजपा बौखला गई है. अब उनके ही सांसद आरक्षण को लेकर अलग अलग राय दे रहे हैं’.

Tags: