अमूमन फिल्म निर्माता व निर्देशक अपनी फिल्म के कलाकार, संगीतकर या टीम में खुद ही बदलाव करते रहते हैं. मगर निर्माता और निर्देशक हंसल मेहता जिस तरह से कंगना अभिनीत फिल्म ‘‘सिमरन’’ की पटकथा में बार बार बदलाव कर रहे हैं, उसके चलते संगीतकार इस फिल्म को छोड़कर जा रहे हैं.

जब हंसल मेहता ने कंगना रनौत को मुख्य भूमिका में लेकर फिल्म ‘‘सिमरन’’ की शुरूआत की थी, तब इस फिल्म के संगीतकार सचिन जिगर थे. तीन माह बाद सचिन जिगर को अहसास हुआ कि हंसल मेहता के साथ फिल्म ‘सिमरन’ में काम करना उनके लिए संभव नहीं है, इसलिए इस संगीतकार जोड़ी ने बडे़ प्यार से हंसल मेहता से कह दिया कि वह उनकी फिल्म के लिए संगीत नहीं दे सकते. उसके बाद हंसल मेहता ने अपनी फिल्म ‘सिमरन’ में संगीत देने के लिए अमाल मलिक को जोड़ा.

सूत्रों की माने तो अमाल मलिक ने बड़ी मेहनत करके तीन गाने तैयार करके दिए. यह गाने हंसल मेहता को पसंद भी आए. मगर कुछ दिन बाद हंसल मेहता ने अमाल मलिक के पास संदेश भेजा कि अब फिल्म की पटकथा में कुछ बदलाव हो गए हैं, तो वह नई पटकथा के अनुसार गानों व संगीत में कुछ बदलाव करके उन्हें बताएं. तीन माह बाद अमाल मलिक ने ऐसा करके दे दिया, हंसल मेहता संतुष्ट भी हो गए. लेकिन पिछले दिनों फिल्म ‘सिमरन’ की पटकथा पुनः बदली गयी. अब एक बार फिर हंसल मेहता ने अमाल से संगीत में बदलाव करने के लिए कहा, तो इस बार अमाल मलिक ने अपनी दूसरी व्यस्तताओें के चलते बड़ी विनम्रता से और बिना किसी तरह का झगड़ा किए खुद को हंसल मेहता की फिल्म ‘सिमरन’ से अलग कर लिया.

सूत्रों का दावा है कि अब हंसल मेहता अपनी फिल्म ‘‘सिमरन’’ के लिए संगीतकार की तलाश कर रहे हैं, मगर कोई भी संगीतकार उनकी फिल्म में संगीत देने को तैयार नहीं है.

सूत्रों के अनुसार फिल्म ‘सिमरन’ की पटकथा के बार बार बदलने की वजह इस फिल्म की मुख्य अदाकारा कंगना रनौत हैं. जब से कंगना अमरीका के न्यूयार्क स्कूल से फिल्म पटकथा लेखन का कोर्स करके आयी हैं, तब से उन पर पटकथा लिखने का भूत सवार है. सूत्र दावा कर रहे हैं कि कंगना ही बार बार ‘सिमरन’ की पटकथा में बदलाव कर रही हैं.

ज्ञातब्य है कि कंगना रनौत केतन मेहता के निर्देशन में फिल्म ‘‘रानी लक्ष्मी बाई’’ कर रही थी. दो साल से इस फिल्म पर काम हो रहा था, मगर अचानक जब कंगना रनौत ने केतन के सामने शर्त रखी कि वह फिल्म की पटकथा व निर्देशन में योगदान देंगी और फिल्म के परदे पर उन्हें सहलेखक व सहनिर्देशक के रूप में नाम चाहिए. मगर केतन के ऐसा करने से मना करने पर कंगना रनौत ने केतन मेहता की फिल्म ‘रानी लक्ष्मीबाई’ से दूरी बना ली.

बहरहाल, अब देखना है कि ‘सिमरन’ को संगीत से संवारने के लिए कौन सा संगीतकार तैयार होता है.