सरिता विशेष

‘‘सलाम नमस्ते’’, ता रा रम पम’’, ‘‘बचना ऐ हसीनो’’, ‘‘अनजाना अनजानी’’ फेम लेखक व निर्देशक सिद्धार्थ आनंद आज उस दिन को कोस रहे हैं, जिस दिन उन्होंने हृतिक रोशन के साथ फिल्म ‘‘बैंग बैंग’’ निर्देशित करने के अलावा संजय दत्त को लेकर एक्श्न फिल्म ‘‘बदला’’ निर्देशित करने की जिम्मेदारी स्वीकार की थी. जी हां! हृतिक रोशन अभिनीत फिल्म ‘‘बैंग बैंग’’ की असफलता के साथ ही सिद्धार्थ आनंद के सितारे भी गर्दिश में चले गए. ‘बैंग बैंग’ की असफलता के बाद सिद्धार्थ आनंद भी बेरोजगार हो गए थे. उन्होंने हृतिक रोशन के साथ अपनी दूसरी एक्शन फिल्म ‘रफ्तार’ को शुरू करने की बजाय बड़ी मुश्किल से एक निर्माता से बात करके संजय दत्त के साथ फिल्म ‘‘बदला’’ की योजना बनायी.

सूत्रों की माने तो जेल से सजा काटकर वापस आने से पहले ही सिद्धार्थ आनंद व संजय दत्त के बीच एक्शन फिल्म ‘‘बदला’’ को लेकर बातचीत हो गयी थी. तय यह हुआ था कि संजय दत्त फरवरी माह में जेल से बाहर आएंगे और अप्रैल माह से वह इस फिल्म की शूटिंग शुरू कर देंगें. सब कुछ तय हो जाने के बाद सिद्धार्थ आनंद ने सोचा था कि अभिनेता संजय दत्त के जेल से बाहर आते ही उनके सितारे भी चमक जाएंगे. सूत्रों का दावा है कि फिल्म ‘बदला’ के निर्माण के लिए निर्माता ने सिद्धार्थ आनंद को पैंतीस करोड़ रुपये भी दे दिए थे. पर जेल से बाहर निकलने के बाद भी संजय दत्त के सितारे नहीं चमके. और न ही सिद्धार्थ आनंद के  सितारे चमके. अंततः निर्माता के दबाव में सिद्धार्थ आनंद को मजबूरन ‘‘बदला’’ हमेशा के लिए बंद करने का ऐलान करना पड़ गया. पर सिद्धार्थ आनंद की मुसीबतें खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही हैं. सूत्रों के अनुसार अब निर्माता ने सिद्धार्थ आनंद से कह दिया है कि उन्हें ‘बदला’ के निर्माण के लिए दिए गए 35 करोड़ रूपए वापस कर दें. मगर सिद्धार्थ आनंद इन पैंतीस करोड़ रूपए को वापस करने के लिए तैयार ही नहीं है.

इतना ही नहीं संजय दत्त के साथ वाली फिल्म ‘‘बदला’’ के बंद होने के बाद सिद्धार्थ आनंद ने एक बार फिर हृतिक रोशन पर दांव लगाने का निर्णय लेते हुए फिल्म ‘‘रफ्तार’’ पर काम शुरू किया. सिद्धार्थ आनंद फिल्म ‘‘रफ्तार’’ की शूटिंग नवंबर माह में शुरू करने का फैसला भी कर लिया. इस इस फिल्म के लिए सिद्धार्थ आनंद ने निर्माता की तलाश जोर शोर से शुरू की, पर कोई भी निर्माता हृतिक रोशन की इस फिल्म के साथ जुड़ने के लिए तैयार नहीं हुआ. हर तरफ से निराश होने के बाद सिद्धार्थ आनंद ने सफल फिल्म ‘अनजाना अनजानी’ के निर्माता रहे साजिद नाड़ियादवाला से संपर्क किया, लेकिन अफसोस साजिद ने भी हृतिक का नाम सुनते ही इस फिल्म से जुड़ने से साफ इंकार कर दिया. सूत्रों के अनुसार साजिद नाड़ियादवाला का मानना है कि हृतिक रोशन के साथ ‘रफ्तार’ का बजट ज्यादा है, इतने बड़े बजट में वह हाथ नहीं डाल सकते.

‘‘बदला’’ और ‘‘रफ्तार’’ के बाद दोनों पर ग्रहण लगने के बाद अब सिद्धार्थ आनंद की समझ में नहीं आ रहा है कि वह क्या करें? मगर बौलीवुड में किसी को भी सिद्धार्थ आनंद से सहानुभूति नहीं है. बल्कि बौलीवुड के बिचौलिए तो सवाल उठा रहे हैं कि सिद्धार्थ आनंद यह कैसे भूल गए कि बौलीवुड में हर शुक्रवार को लोगों की किस्मत बदलती है और किस्मत बदलने के साथ ही सारे रिश्ते व दोस्त बदल जाते हैं…

सिद्धार्थ आनंद की परवरिश इसी फिल्मी माहौल में हुई है. सिद्धार्थ आनंद के पिता बिट्टू आनंद ने अमिताभ बच्चन के साथ फिल्म ‘‘शहंशाह’’ का निर्माण किया था. जबकि सिद्धार्थ आनंद के दादा यानी कि ग्रैंड फादर इंदर राज आनंद मशहूर फिल्म लेखक रहे हैं. इंदर राज आनंद ने ‘सफर’, ‘संगम’, ‘एक दूजे के लिए’ सहित 120 फिल्में लिखी थी. इतना ही नहीं वह मशहूर फिल्म अभिनेता व निर्देशक टीनू आनंद के भतीजे हैं. इसके बावजूद यदि सिद्धार्थ आनंद को बौलीवुड कार्यशैली समझ में नहीं आ रही है, तो फिर उन्हें कौन समझा सकता है? बौलीवुड में हमेशा से सफलता व सफल लोगों को ही सलाम किया जाता रहा है. असफल लोगों को बौलीवुड में लोग बहुत जल्दी भूल जाते हैं.